अमरपाल सिंह ‘आयुष्कर’ की पांच लघुकथाएं

कथा-कहानी लघुकथा

अमरपाल 64 2018-11-17

आकार में छोटी ही सही लेकिन बड़ी बातों की तरफ इशारा करतीं, चलती-फिरती जिंदगियों की टकराहटों से पनपतीं लघुकथाएं …..

बुके 

अमरपाल सिंह ‘आयुष्कर ‘

चौराहे की लाल बत्ती पर रुकते ही , फूलों पर पड़ी मेरी नज़र को वो भांप गया और   तेज क़दमों से चलते हुए मेरे पास तक आ गया –

“ ये लो सर जी बिलकुल ताज़े फूल  हैं, कितने चाहिए ? कितने में दोगे ये वाला ? बोल पड़ा – पांच सौ , में दोनों बुके दे दूंगा ,ले लीजिये ना साब , ज्यादा नही बोला हैं | “ दो सौ में देना हो , तो दे दो दोनों ,  ग्रीन लाईट होने वाली है  ..”!

 मेरे इन शब्दों को सुन उसका मुँह  लटक गया |फिर खुद को सहेजते हुए बोला – अच्छा ले लीजिये गुलाब और रजनीगंधा दोनों ,  आखिरी दाम , साढ़े चार  सौ , दोनों दे दूंगा !

तभी मेरी नज़र उसकी पसीने से तरबतर  सख्त हथेली  पर बंधे,  मैले कपडे की तरफ फिसल गयी  ….उसने फिर  निगाह भांप ली , कुछ नही सर जी, कल रात ढाबे पर बर्तन धोते समय  कट गया था थोड़ा | ओह ! तो कुछ दवा ली …..? वो जोर से हँसा – कहाँ सर जी ! सुबह से लोग सिर्फ मोलभाव ही करके चले जाते हैं ,दोपहर होने को आई | सुबह जब ताजे थे तो इनके दाम ज्यादा थे ,यह कहकर  किसी ने नही लिया | अब मुरझाने लगे तो लोग भाव पूछकर आगे बढ़ जाते हैं …..मैं तो समझ ही नही पाता  साब  ! “ फूल को धूप और गरमी  सुखा रही है या आप जैसे बड़े लोग …….| ”

अच्छा जी आती हूँ अभी ….. 

कितना सब्र करूँ हद हो गयी , जबसे रिटायर हुए हैं बौरा गए हैं | न खुद चैन से बैठते हैं न बैठने देते हैं | अरे ! क्यों इतना प्रेमगीत गाये जा रही हो ? मैं तो बस बाज़ार चलने के लिए बोल रहा था | साथ चलती तो अच्छा लगता ,बीमार शरीर को शुद्ध हवा मिल जाती ,मन बहल जाता थोड़ा | वैसे भी पूरी उम्र नौकरी की भागमभाग ने तुम्हारे  साथ बैठने का मौका कहाँ दिया ? पूरी उम्र मेरी तीमारदारी में लगी रही , हर बात पर –‘ बस अभी आती हूँ ………..अभी आई …’ अपने बारे में कभी सोचा तक नही ……उम्र भी सरक कर कहाँ आ गयी ,पर तुम आज भी वहीँ की वहीँ रुकी हो | पति दीनानाथ  की बात सुनकर कमला शरमा गयी | जाने भी दीजिये आप भी |….अरे अच्छा सुनो ! अगर बाज़ार नही चलना तो ना चलो ,  मेरा एक काम ही कर डालो बैठे –बैठे …..इतना सुनते ही कमला बोल उठी बोलिए न क्या काम है ?दीनानाथ बीमार पत्नी के कंधो पर हाथ रखते हुए बोले –“ तुम यहीं दालान में बैठो , आता हूँ |” थोड़ी देर बाद दो कांपते हुए हाथ ट्रे को मजबूती से पकड़े , अपनी ज़िन्दगी की तरफ़ चले आ रहे थे | कमला बोल पड़ी – अरे ! ये क्या आपने बनाया ? सच में सठिया गए आप ….बोलिए न क्या यही काम था … ? दीनानाथ जी ने मुस्कुराते हुए हाँ ! अब तुम बैठो और मेरे हाथ के बनाये गरम –गरम पकौड़े और चाय का स्वाद लो और हाँ ! वो तुम्हारा वाला डायलॉग अबसे मैं बोला करूँगा – “अच्छा जी आता  हूँ ,बस ….अभी आया |

पूरी दालान मुस्कुराने लगी थी , कमला के सकुचाये पन को देखकर |

कारीगर 

साभार google से

घुरहू ने बड़े जतन से महराजिन अम्मा के घर की एक –एक ईंट जोड़ी थी |

दिल्ली से पूरे दस साल बाद काम सीखकर लौटा हूँ महराजिन अम्मा ! मिस्त्री के काम में पारंगत  हो गया हूँ |बाप – दादा मजूरी करते – करते सिधार गए , कला ना आई | परदेश जाने से बचते रहे | कहते – कहते घुरहू ने महराजिन अम्मा का घर बनाने का ठेका ले लिया |रसोईघर घर बनाने में तो उसे महारत हासिल थी |दिल्ली में जो कुछ भी उस्ताद से सीखा था , आज महराजिन के घर उन सब को उतार देने पर आमादा था | गृहप्रवेश और समय ने रसोईघर को इज़ाजत दे दी – खुशबू और प्यार परोसने की  | अरे वाह ! आज क्या पकाऊँ नयी रसोई में अम्मा जी ? बहू की आवाज़ सुन अम्मा भी रसोई तक आ गयीं |आंखे मटकाते हुए बोलीं – “बिलकुल सिनेमा माफिक रसोई बनायी है घुरहुआ ने |बाप का हाथ मिल गया विरासत में इसको !”

लोगों से अपने बनायी कला का गुणगान सुन , घुरहू फूला ना समा रहा था | बार –बार अपनी पत्नी रमिया  के आगे अपनी हथेलियाँ चूमता , बोलता जाता –“ दादा से मिली ये कला …भगवान भी ..अपरम्पार है लीला उसकी , बहुत बड़ा कारीगर है वो ! “ पत्नी ने तपाक से पूछ लिया – “ चलो दिखा के लाओ फिर अपनी कला ….बिना देखे कैसे जानूं  अपने मरद की कारीगरी | वो तो टोले वालों की जलती मुस्कान से थोड़ा समझ जाती हूँ ..पर एक बार अपनी आँखों  देख तो लूं दिल को ठंढक पहुंचेगी |”  घुरहू महराजिन के द्वार पर खड़ा था , भीड़ के बीच सकुचाया -सा | लोग जब तारीफ करते तो हाथ जोड़ मुस्कुरा देता |तभी छोटी बहू नज़र आयीं | घुरहू ,रमिया को लेकर महराजिन के  घर में दाखिल हुआ | एक –एक बारीकी दिखा कर ,  गौरवान्वित महसूस कर रहा था ..बोला-“ ई का अभिन रसोई देखना ……कहते हुए बोल पड़ा –

“ मालकिन ऊ हमार मेहरिया हमारा काम देखा चाहत है रसोई का ….”

सुनते ही छोटी बहू के कान गरम हो गए |तेजी से कुछ सोचते हुए रसोई की तरफ भागीं …घुरहू चिल्लाया कुछ जल गया का मालकिन ….? तेज क़दमों से लौटी छोटी बहू बोल पड़ी – “ इ  लो मोबाइल पर फोटो देख लो अपने मरद के  कारीगरी की “

घुरहू  की पत्नी रमिया नम आँखे नीचे किये हुए बोल पड़ी  –  “ मैं तो इनसे कबसे बोल रही थी मालकिन – भित्तर छुआ जायेगा तो महराजिन  अम्मा परान ले लेंगी |” घुरहू बुदबुदाया  –   कहता था ना ……भगवान भी , ..अपरम्पार है लीला उसकी….बहुsssssते  बड़ा कारीगर है वो !

स्टेटस 

गूगल से साभार

कार में बैठते हुए मिसेज शर्मा ने अदा के साथ अपने भावी समधी की तरफ आँखें फेरी | नो डाउट मिस्टर शुक्ल ! आपके बेटी की ब्यूटी माडलों जैसी है , गाती भी अच्छा है ,पेंटिंग ,सिलाई आई मीन ! सारे गुण हैं , एक अच्छी हाउस वाइफ के |आखिर मेरे बेटे की पसंद है ? पर अफ़सोस बहुत फर्क है हमारे और आपके बीच | शादी में इतना मैनेज कर पायेंगे आप ?……मेरा मतलब ……बुरा मत मानियेगा आप ! दरअसल …..बड़े बेटे की बारात  फाइव स्टार होटल में ….अच्छी व्यवस्था की थी , बड़ी बहू के घरवालों ने | और आप तो जानते हैं मेरे रिश्तेदारों को ? आपसे क्या छुपा ….अच्छा चलती हूँ , सोचियेगा ,ये तो बच्चे हैं , वक्त के साथ –साथ सब समझ जायेंगे ,जिम्मेदारी तो हमारी और आपकी बनती है कि इन्हें समझाएं , क्या इनके भविष्य के लिए सही है……और ये स्टेटस का फर्क ….आई  थिंक …..कहते हुए मिसेज शर्मा कार में बैठ गयीं |

भीतर आकर शुक्ल जी की नज़र अपने फटे जूते ,बिस्तर पर बिछी , सिली हुई चादर के अलावा शुक्लाइन की बुझी हुई आँखों पर भी पड़ी |अचानक शुक्ल जी ने तकिये को उठाकर चद्दर के सिले भाग पर रख दिया ,जूते को टांड पर  टिका  ,पत्नी की आँखों पर अपने शख्त हाँथों  को ,  गीले मन से रख दिया |

तभी पत्नी की भर्रायी आवाज़ ने उन्हें चौंका दिया –“ रहने भी दो शुक्ल जी ! क्या-क्या ढकोगे ? ढंकने से हम  मिसेज शर्मा बन जायेंगे क्या ?

हम

रिंगटोन  बजते ही अनुराधा   का हाथ तेज़ी से फ़ोन की तरफ़ बढ़ा |उसकी सहेली निशा का था |ओह  नो ! निशा  तुम , हम तो समझे कि मंत्री जी का फ़ोन है | तुमने अखबार में तो पढ़ा होगा न | हमें चुनाव …..अरे दुआ कर , जीत जाऊँ | निशा ने रुआंसे स्वर में कहा –“ ज़रूर जीतोगी …..अनुराधा |” मैं बहुत परेशान हूँ | नरेश की वहशियाना हरकतें | माँ जी की किचकिच और ….बात को बीच में काटते हुए –“ अरे यार ! एक बात तो तुझे बताना भूल ही गयी | हम लोग शॉपिंग सेंटर खोलने जा रहे हैं , मेन मार्केट में | मौका पाकर निशा बोली –“ मैं तुमसे मिलना चाहती थी ,एक तुम्ही हो जो …….” और हाँ ! क्या कहा तुमने …..एक सेकण्ड न्यूज़ देखो ! स्लम एरिया में मेरा कार्यक्रम था , आज वही टेलीकास्ट हो  रहा है …..

अच्छा ऐसा है कि तुम थोड़ी देर बाद फ़ोन करो …..वो   मंत्री जी का फ़ोन आ रहा है न …अरे हाँ ! मैं तो पूछना ही भूल गयी , तुम कैसी हो ?

फोन कट चुका था | उंह …जल गयी होगी ….अनुराधा ने रिसीवर पटक दिया | बेमतलब ………….न जाने क्या मिल जाता है लोगों को  खुद फोन करके काटने में ?

अमरपाल द्वारा लिखित

अमरपाल बायोग्राफी !

नाम : अमरपाल
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

मनुष्य होने के सन्दर्भ तलाशते लयबंध: समीक्षा (उमाशंकर सिंह परमार)

मनुष्य होने के सन्दर्भ तलाशते लयबंध: समीक्षा (उमाशंकर सिंह परमार)

उमाशंकर सिंह परमार 296 2019-06-02

बृजेश लय आधारित विधा के सफल और नामचीन कवि हैं। उनके लयबन्धों पर लिखना चुनौती भरा काम है। अमूमन गीतों और गज़लों की समीक्षा में व्याकरण व भावनात्मक आवेगों की प्रतिच्छाया सक्रिय रहती है आलोचक वाह-वाही की शैली में स्ट्रक्चर पर अपनी बात रखकर आलोचना की इतिश्री कर देते हैं। वह गीतों और बन्धों की वैचारिक विनिर्मिति और समाजशास्त्र पर जाना ही नहीं चाहते हैं। इससे हिन्दी कविता के क्षेत्र में गज़ल और गीतों को दोयम माना जाता रहा है। यह कमी विधा की नहीं है आलोचना की कमी है कि गीतों और बन्धों में समाजशास्त्रीय आलोचना को नहीं लागू किया गया वह अब भी अपने परम्परागत आलोचना प्रतिमानों द्वारा मूल्यांकित की जा रही है।

हंसी व सामूहिकता को बचा कर रखता है रंगमंच: आलेख (अनीश अंकुर)

हंसी व सामूहिकता को बचा कर रखता है रंगमंच: आलेख (अनीश अंकुर)

अनीश अंकुर 207 2019-05-25

डिजीडल दुनिया में भले मनुष्य आभासी दुनिया में एक दूसरे से जुड़े रहते हैं लेकिन यथार्थ में उनका सामूहिक जीवन पर बेहद घातक प्रभाव पड़ा है। हमारी सामूहिकता, एक दूसरे के साथ हंसना-बोलना सब पर बुरा प्रभाव पड़ा है। भोपाल के रंगनिर्देशक बंसी कौल ने रंगविदूषक की ऐसी ही अवधारणा पर काम किया है। वे कहते है ‘‘ रंगविदूषक में हम यह मानकर चलते थे कि हमारा काम एक असलहा है। आपको कुदरत ने ऐसा हथियार दिया जिसे बनाए रखना जरूरी है। यदि आप विचार को बचाकर रखोगे आप अपनी आध्यामिकता को बचाकर रखोगे क्योंकि जो हंसी-ठठा होता है, वह सामूहिक होता है। लेकिन आप उसी पूरी हंसी को खत्म कर दोगे तो आप सामूहिकता को भी खत्म कर रहे हैं जिसकी हमारे समाज को बहुत जरूरत है। ’’ नाटक यही काम करता है वो आपका मनोरंजन करता है, हंसाता है। ताकतवर लोगों पर भी हंसने की क्षमता प्रदान करता है। बकौल बर्तोल्त ब्रेख्त ‘‘ जिस नाटक में आप हंस नहीं सकते वो नाटक हास्यास्पद है।’’

तितलियाँ बेचैन हैं: कहानी (सुभाष पंत)

तितलियाँ बेचैन हैं: कहानी (सुभाष पंत)

सुभाष पंत 315 2019-05-01

वह स्वर्ण युग था जिसमें शेर और बकरी एक घाट पानी पीते थे। वर्तमान कितना घिनौना है, यह बताने की मैं कोई आवश्यकता अनुभव नहीं कर रहा। उसे तो तुम देख ही रही हो। मेरा बस चले तो मैं वर्तमान को अतीत में बदल दूँ। दरअसल मेरी मुख्य चिंता ही यह है।’ कछुए ने आध्यात्मिक दर्प के साथ कहा। तितलियों ने अनेक बार इसी किस्म के सनातन वक्तव्य सुने थे, जिनका नाभिनाल अतीत में गड़ा होता है। अतीत के प्रति पूरा सम्मानभाव रखने के बावजूद वे इस तरह के वक्तव्यों से ऊब चुकीं थीं। एक प्रगल्भ तितली ने तुरन्त अपना विरोध प्रकट किया, ’इसका मतलब तो यही हुआ सर कि यह ऐसी व्यवस्था थी जहाँ शेर को शिकार करने के लिए भटकना नहीं पड़ता था। वह उसे बिना परिश्रम के उसी घाट पर उपलब्ध हो जाता था, जहाँ वह पानी पीता था। यह तो सर शोषक की आदर्श स्थिति हुई, शोषित की नहीं।’

स्त्री अधिकारों का 'मौन अनुबंध' कविता समीक्षा (गणेश गनी)

स्त्री अधिकारों का 'मौन अनुबंध' कविता समीक्षा (गणेश गनी)

गणेश गनी 274 2019-04-29

हिंदी साहित्य में ऐसे धूर्त साहित्यकार भतेरे हैं जो स्त्री विमर्श की आंच पर अपनी साहित्यिक रोटियां तो सेकते हैं, जो महिलाओं पर केंद्रित कविताएँ तो लिखते हैं, जो महिला विशेषांक भी निकालते हैं और सम्मेलनों में जाकर भाषण झाड़ते हैं कि उनसे बड़ा औरतों का संरक्षक कोई और है ही नहीं, परन्तु असलियत कुछ और ही होती है और वो यह कि उनके विचार इन सबसे एकदम उलट होते हैं। इनकी मानसिकता तब और भी उजागर हो जाती है जब ये दारूबाज पार्टियों में अपनी घिनौनी सोच को जगज़ाहिर करते हैं। दरअसल हमारे समाज में अब भी स्त्रियों को वो सम्मान और हक अभी नहीं मिले हैं, जिनकी वे वास्तव में हकदार हैं। आज भी अधिकतर चालाक पुरुष उसे अपनी सम्पति से अधिक कुछ नहीं समझते। कवयित्री भावना मिश्रा की अधिकतर कविताएँ ऐसी मानसिकता पर गज़ब की चोट करती हैं। भावना मिश्रा ने पुरुष मानसिकता की कलई शानदार तरीके से खोली है-

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.