मेरी कविताएँ ही मेरा परिचय है: एवं अन्य कवितायें (तेजप्रताप नारायण)

कविता कविता

तेजप्रताप नारायण 42 2018-11-18

जिंदगी के कठोर सच, संघर्ष एवं मानवीय उम्मीदों पर गहराते अंधेरों को बेबाकी से बयाँ करतीं ‘तेज प्रताप नारायण‘ की कविताएँ ………| – संपादक

मेरी कविताएँ ही मेरा परिचय है  

तेजप्रताप नारायण

तेजप्रताप नारायण

मैं मेरा परिचय क्या दूँ
मेरी कविताएँ ही मेरा परिचय है
जो फुटपाथों ,झोंपड़ों ,गलियों और मोहल्लों में जाती हैं
विषमता और अन्याय के मठों पर ठोकरें मारती हैं

जो हर उस ओर जाती हैं
सोते हुए को जगाती हैं
जो श्रृंगार में रमती नहीं
साहित्यिक वादों से
जिनकी जमती नहीं
जो परंपरा को तोड़ती हैं
इंसानों को आपस में जोड़ती हैं
जो बाबरी के खिलाफ थी
तो दादरी के खिलाफ भी
जो गोधरा के खिलाफ थी
और मालदा के खिलाफ भी

मेरी कविताएं ही मेरा परिचय हैं
जो केंवल कल्पनाओं और कोमल भावों से ही नहीं
यथार्थ के कठोर धरातल से टकराती हैं
जो ईश्वर की आराधना में नहीं रत है
बल्कि उसको ललकारती हैं
इंसान को भीड़ बनने से रोकती हैं

मेरा परिचय मेरी कविताएं ही हैं
जो मेरे ज़िंदा होने का प्रमाण हैं
गलत तरीके से लिखे गए इतिहास के खिलाफ हैं
जाति वाद के खिलाफ हैं
वर्ण वाद के ख़िलाफ़ हैं
मानव गरिमा को क्षति पहुचाने वाले
हर वाद के खिलाफ हैं
हर उस इंसान के खिलाफ हैं
मेरी कविताएं ही मेरा परिचय हैं ।

हर्ज़ क्या है

मैं जानता हूँ
कि मैं जो चाहता हूँ
वह असंभव है
फिर भी सोचने में
हर्ज़ क्या है
कि एक बार चाँद को सूरज बना दें
आदमी को कुछ दिनों के लिए औरत बना दें
जो खूबसूरत नहीं है
उसे खूब सूरत बना दें

एक बार आधुनिक को आदिम बना दें
जनता को सरकारी मुलाज़िम बना दें
एक बार हक़ को फ़र्ज़ बना दें
स्वास्थ्य को मर्ज़ बना दें
सागर को बिंदु बना दे
दुश्मन को बंधु बना दें

मठ तोड़ दिए जाएँ सभी
पद छोड़ दिए जाएँ सभी
सारे बंधन तोड़ दिए जाए
मनुष्य को पूर्ण स्वतंत्र छोड़ दिया जाए

सीमाएं खोल दी जाए
देश और राष्ट्र की बातें छोड़ दी जाए
जाति और धर्म मिटा दें
इंसान को सिर्फ इंसान बना दें
हर्ज़ क्या है
हर्ज़ क्या है ।

कविता नहीं इतिहास लिखता हूँ 

मैं कविता नहीं वर्तमान का इतिहास लिखता हूँ

फोटो- सूरज दीप

फोटो- सूरज दीप

केवल कल्पना नहीं यथार्थ लिखता हूँ
कपोल कल्पित कहानिया नहीं समाज लिखता हूँ
अलौकिक नहीं,लौकिक संसार लिखता हूँ
उबड़ -खाबड़ नहीं सपाट लिखता हूँ
बिना लाग लपेट के खरी बात लिखता हूँ
दिन को दिन और रात को रात लिखता हूँ
बार -बार, हर बार सही बात लिखता हूँ
मैं कविता नहीं इतिहास लिखता हूँ ।

तमाम उम्र

तमाम उम्र केवल फिक्र किया

ज़िन्दगी चाहती है क्या ,न उसका कभी  जिक्र किया

ग़मों की दुनिया दिल में बसाते रहे

खुशियों के दिनों में न यकीन किया

हर वक़्त भागते रहे

पता न थी क्या चाह इस कदर  जिसको चाहते रहे

मोहबतों के आशियाने पर  नफरतों के साये पड़ते रहे

हम उनसे मिलने की खातिर  ताज़िन्दगी सफ़र करते रहे

ज़रूरते पूरी न हुई ज़रूरत मंदों की

उधर कमी न हुई मस्ज़िद के लिए चंदों की

कुछ थे जो टूटे हुए आशियाने बनाते रहे

कुछ थे जो मंदिर और मस्ज़िद को तुड़वाते रहे

यह सच है कि मंज़िले न मिल पायी  अब तक

बावज़ूद इसके उन रास्तों पर चलते रहे

थोड़ी सी मोहब्बत और इज़्ज़त की खातिर

नागवार और बेज़ा बातें भी सहते रहे

कुछ बिकाऊ थे उनकी बात भी दीगर

तराशे हीरे भी बाज़ारू होकर बिकते रहे

कुछ बातें  बताना भी मुश्किल और छुपाना भी मुश्किल

इस  आंड़ में वह नागवार हरकते रहे

कुछ बातों से पर्दा न हटे तो बेहतर होता है

ये समझ हम  जान बूझ नासमझी करते रहे ।

तेजप्रताप नारायण द्वारा लिखित

तेजप्रताप नारायण बायोग्राफी !

नाम : तेजप्रताप नारायण
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

'मित्रो मरजानी' से अनंत यात्रा पर 'कृष्णा सोबती', स्मरण शेष

'मित्रो मरजानी' से अनंत यात्रा पर 'कृष्णा सोबती', स्मरण शेष

हनीफ मदार 198 2019-01-25

भारतीय साहित्य के परिदृश्य पर हिन्दी की विश्वसनीय उपस्थिति के साथ कृष्णा सोबती अपनी संयमित अभिव्यक्ति और रचनात्मकता के लिए जानी जाती रहीं उनकी लंबी कहानी मित्रो मरजानीके लिए  कृष्णा सोबती पर हिंदी पाठकों का फ़िदा हो उठना इसलिए नहीं था कि वे साहित्य और देह के वर्जित प्रदेश की यात्रा की ओर निकल पड़ी थीं बल्कि उनकी महिलाएं ऐसी थीं जो कस्बों और शहरों में दिख तो रही थीं, लेकिन जिनका नाम लेने से लोग डरते थे.यह मजबूत और प्यार करने वाली महिलाएं थीं जिनसे आज़ादी के बाद के भारत में एक खास किस्म की नेहरूवियन नैतिकता से घिरे पढ़े-लिखे लोगों को डर लगता था. कृष्णा सोबती का कथा साहित्य उन्हें इस भय से मुक्त कर रहा था. वास्तव में कथाकार अपने विषय और उससे बर्ताव में केवल अपने आपको मुक्त करता है, बल्कि वह पाठकों की मुक्ति का भी कारण बनता है. उन्हें पढ़कर हिंदी का वह पाठक जिसने किसी हिंदी विभाग में पढ़ाई नहीं की थी लेकिन अपने चारों तरफ हो रहे बदलावों को समझना चाहता था.

 

इसके अलावा निकष’, ‘डार से बिछुड़ी’, मित्रों मरजानी’, ‘यारों के यार’, ‘तिन-पहाड़’, ‘बादलों के घेरे’, ‘सूरज मुखी अँधेरे के’, ‘ज़िन्दगीनामा’, ‘ लड़की’, ‘दिलो-दानिश’, ‘हम हशमतऔर समय सरगमसे गुज़री आपकी लम्बी साहित्यिक ज़िंदगी में अपनी हर नई रचना में आपने ख़ुद अपनी क्षमताओं का अतिक्रमण किया जो सामाजिक और नैतिक बहसों की अनुगूँज के रूप में बौद्धिक उत्तेजना, आलोचनात्मक विमर्श, के साथ पाठकों में बराबर बनी रही

 

साहित्य अकादमी पुरस्कार और उसकी महत्तर सदस्यता के अतिरिक्त, अनेक राष्ट्रीय पुरस्कारों और अलंकरणों से शोभित कृष्णा सोबती साहित्य की समग्रता में ख़ुद के असाधारण व्यक्तित्व को भी साधारणता की मर्यादा में एक छोटी-सी कलम का पर्याय ही मानती रहीं बावज़ूद आपने हिन्दी की कथा-भाषा को एक विलक्षण ताज़गी दी आज अपने बीच से उनका चले जाना भले ही एक जीवन चक्र का पूरा होना हो किंतु यह सम्पूर्ण हिंदी साहित्य जगत के लिए एक ऐसी अपूर्णीय रिक्तता की तरह है  जिसे भर पाना नामुमकिन है

 

उन्हीं की एक कहानी के साथ हमरंगपरिवार कृष्णा सोबती को नमन करता है

भारतीय अमूर्तता के अग्रज चितेरे : रामकुमार

भारतीय अमूर्तता के अग्रज चितेरे : रामकुमार

पंकज तिवारी 371 2019-01-15

पहाड़ों की रानी, शिमला में जन्में चित्रकार और कहानीकार रामकुमार ऐसे ही अमूर्त भूदृश्य चित्रकार नहीं बन गये अपितु शिमला के हसीन वादियों में बिताये बचपन की कारस्तानी है, रग-रग में बसी मनोहर छटा की ही देन है इनका रामकुमार हो जाना। अपने में ही अथाह सागर ढूढ़ने वाले शालीन,संकोची रामकुमार बचपन से ही सीमित दायरे में रहना पसंद करते थे पर कृतियाँ दायरों के बंधनों से मुक्त थीं शायद यही वजह है उनके अधिकतर कृतियों का 'अन्टाइटल्ड' रह जाना जहाँ वो ग्राही को पूर्णतः स्वतंत्र छोड़ देते हैं भावों के विशाल या यूँ कहें असीमित जंगल में भटक जाने हेतु। किसी से मिलना जुलना भी कम ही किया करते थे। उन्हे सिर्फ और सिर्फ प्रकृति के सानिध्य में रहना अच्छा लगता था - उनका अन्तर्मुखी होना शायद इसी वजह से सम्भव हो सका और सम्भव हो सका धूमिल रंगों तथा डिफरेंट टेक्स्चरों से युक्त सम्मोहित-सा करता गीत। 

- पंकज तिवारी का आलेख 

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.