मेरे समय में नेहरू: आलेख (अभिषेक प्रकाश)

विमर्श-और-आलेख विमर्श-और-आलेख

अभिषेक 94 2018-11-15

नेहरू को हमने किताबों के माध्यम से जाना जरूर पर सबसे शिद्दत से मोदी युग में ही महसूस किया। एक घटना याद आ रही है मुझे जब प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं आपका प्रधानसेवक हूं। तभी मुझे त्रिमूर्ति की याद आई जिसके पास ही एक स्मारक में मैंने नेहरू द्वारा कहे गए इसी शब्द ‘प्रधानसेवक’ को लिखा पाया था। खैर सेवक तो सभी है कॉपीराइट केवल नेहरू का ही थोड़ी ही है। ….. अपने समय में नेहरु को समझने का प्रयास कर रहे हैं ‘अभिषेक प्रकाश’


मेरे समय में नेहरू 

अभिषेक प्रकाश

अभिषेक प्रकाश

नेहरू का नाम मत लीजिए! नेहरू एक असफल नेता थे। उन्होंने देश को बहुत नुकसान पहुँचाया। चीन और कश्मीर मामले को ही देखिए इस आदमी के कारण ही देश को आज तक नुकसान झेलना पड़ता है। आज कश्मीर जल रहा है आखिर क्यों? सीधा सा जवाब है नेहरू के कारण। यह व्यक्ति सत्ता का लालची था ! नहीं तो कोई और नहीं था क्या प्रधानमंत्री बनने लायक! लेकिन इसने गांधीजी को फाँस लिया था। नहीं तो सरदार पटेल इस देश के पहले प्रधानमंत्री हुए होते! और फिर क्या ये सारी समस्याएं ऐविंग सॉल्व हो गयी होती। पेरिस से तो इसके कपड़े धुल कर आते थे और नहीं तो ये रंगीन मिज़ाज़ का आदमी था। लेडी मॉन्टबेटन से इसके अंतरंग सम्बन्ध थे !जी हां! सेक्युलरिज्म के नाम पर इस आदमी ने हिन्दू धर्म के साथ जो खिलवाड़ किया न ,बिलकुल अक्षम्य है । अरे यह आदमी खुद तो नास्तिक था ही औरों को भी यह अपने जैसा बनाना चाहता था। ये नहीं होता तो भारत कब का सिक्योरिटी कौंसिल का स्थायी मेंबर हो गया होता!

ऊपर लिखी पंक्तियां ही आज की बहुसंख्य आबादी के बीच नेहरू की पहचान है। २०१४ की बात है। लोकसभा चुनाव होने वाले थे। पूरब का ऑक्सफ़ोर्ड कहे जाने वाले इलाहाबाद विश्वविद्यालय से बमुश्किल दो सौ मीटर की दूरी पर एक स्टूडेंट लॉज में, मैं भी ठिकाना लिए हुआ था। वही इलाहबाद जिसके कभी मेयर रहे थे जवाहर लाल! विश्वविद्यालय के छात्रों के बीच चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज थी। तत्कालीन केंद्र सरकार के समय में हुए घोटालों से लोगो में सिस्टम के ख़िलाफ़ गुस्सा भरा पड़ा था। साइंस फैकल्टी हो या आर्ट हर जगह राजनीति पसरी हुई थी। राजू के चाय की दुकान हो या यादव जी का होटल चाहे अपना रसोई चावल-दाल, नमक-तेल सभी में राजनीति का तड़का था। यूँ समझिए राजनीति पुदीन हरा की गोली थी! मेरे कमरे के नज़दीक ही आनंद भवन था। हां वही आनंद भवन। जो नेहरू परिवार के वैभव का प्रतीक था! मैंने लोगों को तर्क देते सुना था कि अंग्रेज़ो की दलाली और मोतीलाल नेहरू की वकालत की कमाई की बदौलत था ये सबकुछ। हां एक बात और जो मैंने गौर किया था कि वहां दक्षिण भारत से भी लोग आते थे। कई-कई बसों में एकसाथ सैकड़ो के समूह में संगम नगरी में अपने पाप को धोने के लिए तब वह आनंद भवन भी जरूर घूमने आते थे। मैंने उनके भाव को भी महसूस किया था जब वो ख़ाली पैर सीढ़ियों पर चढ़ा करते थे मानो की कोई मंदिर हो। एक भक्त जैसा भाव लिए! अंध भक्ति बुरी ही होती है चाहे वो किसी की भी हो। लेकिन कुछ ऐसे भी लोग थे जो नेहरू के नाम से ही मुग्ध हो जाते थे।उनके लिए नेहरू महान थे। उनके पास इसके पक्ष में राजनीतिक तर्क भी होते थे।

imagesउसी दौरान मैं नेहरू की एक छोटी सी तस्वीर लाया, जिसको मैंने अपने कमरे की एक दीवार पर चस्पा कर दिया। नेहरू के साथ कई और तस्वीरें भी थी उस कोलाज में। पर उस बौद्धिक नगरी में नेहरु ही ज्यादा चुभते थे! कमरे पर आने वाले अधिकतर लोगों को यह लगता था कि कैसे मैं नेहरू को पसंद कर सकता हूं। उन्हें मेरे इतिहासबोध पर हमेशा ही शक़ रहा। हां और मुझे उनलोगों पर! क्योंकि प्रायः नेहरू की आलोचना में वह कुछ भी कह जाया करते थे। कुछ भी मतलब कुछ भी। नेहरू की माँ-बहन को हमारे दौर में नेहरू से भी ज्यादा झेलना पड़ा! नारी को सशक्त करने के सबके अपने अलग तरीके हैं। नेहरू ने अपने बेटी को पढ़ाया लिखाया । समयाभाव में जेल से ही चिठ्ठियां लिखकर अपने पिता होने की भूमिका को बखूबी निभाया! आज का तरीका अलग है ! पर जो भी है अजीब है। लगता ही नहीं कि भारत के डीएनए में ये कुछ नया सा है। गालियां बकते ये लोग देश व् धर्म के प्रति पब्लिक प्लेटफॉर्म में हमसे ज्यादा संवेदनशील नज़र आते हैं।

नेहरू को हमने किताबों के माध्यम से जाना जरूर पर सबसे शिद्दत से मोदी युग में ही महसूस किया। एक घटना याद आ रही है मुझे जब प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं आपका प्रधानसेवक हूं। तभी मुझे त्रिमूर्ति की याद आई जिसके पास ही एक स्मारक में मैंने नेहरू द्वारा कहे गए इसी शब्द ‘प्रधानसेवक’ को लिखा पाया था। खैर सेवक तो सभी है कॉपीराइट केवल नेहरू का ही थोड़ी ही है।

हां नेहरू मेरी स्मृति में जगह बना पाए उसमें ‘बुश’ कम्पनी के एक रेडियो का भी छोटा सा योगदान रहा। छोटी वाली टीवी से थोड़ा ही छोटा उस रेडियो को मेरे बाबा ने कलकत्ता में ख़रीदा था। नेहरू के भाषण को सुनने के वास्ते। तब पूरब के लोग की रोज़ी-रोटी का पनाहगार कलकत्ता ही हुआ करता था! बाबा अपने पूरे कुनबे के साथ कई दशकों से वही डेरा-डंडा डाले हुए थे। हां बाबा के ही एक चाचा भी वहीं थे , जिन्होंने नेताजी बोष के ऊपर एक काव्यात्मक शैली में पुस्तक लिखी थी। जिसकी प्रेरणा में बाबा का अहम् रोल था। ऐसे व्यक्ति द्वारा केवल नेहरू के भाषण सुनने के लिए उस गरीबी और संघर्ष के दौर में रेडियो खरीदना उनके राजनीतिक समझ को प्रदर्शित करता था। उन्होंने मेरा नेहरू से परिचय ऐसे कराया कि मुझे अपनी सोच मे वैज्ञानिकता को समावेशित करने में कोई अलग से एफर्ट नहीं करना पड़ा। वह रेडियो चलता नहीं था। और बाबा की इच्छा थी कि उसे किसी तरह ठीक करवा दूँ मैं। अभी ग्लोबलिज़ाएशन को पनाएं बमुश्किल एक दशक भी नहीं हुए थे लेकिन उसका प्रभाव बाजार में साफ़ दिखने लगा था। मैं उस रेडियो को अपने साथ लाया था कि अबकी बनवाऊंगा और बाबा को दूंगा! मेरे एक दोस्त की रेडियो की दुकान थी । वहां मै रेडियो लेकर गया पर मिस्त्री ने कहा कि इसको बनाना संभव नहीं। उसने इसके बदले और कुछ पैसे लगाने पर एक ‘टू ईन वन’ मतलब रेडियो और टेप जिसमे दोनों हो देने को कहां। और जिसके बदले में मैंने उस रेडियो को बदल ली, जो बाबा के लिए अपना अतीत का एक सुनहरा अध्याय था। जो मेरे लिए एक इतिहास का शानदार पन्ना था।जो उनके मेहनत-मजदूरी का छोटा सा प्रतीक था। आज नेहरू, बाबा और रेडियो तीनों नहीं हैं। बाज़ार, मध्यवर्ग और उससे उपजा एक लालच है। जो फ़ायदा पर टिका हुआ है। जहां हर चीज़ एक प्रोडक्ट है। इमोशन का एक लंबा-चौड़ा बाजार है।जिसमे हर चीज बिकती है। बाबा का रेडियो हो या नेहरू के विचार! नेहरू अब ज्यादा बिकते है लेकिन अपने मूल रूप में नहीं! नेहरू को कमतर दिखाने के लिए हर तरतीबे अपनाई जा रही है।
बचपन में १४ नवंबर का दिन बहुत खास होता था जब मैं अपने स्कूल में बाल दिवस को एक उत्सव की तरह मनाता था। नेहरू के विचारो को समझने-समझाने का खास दिन होता था। बाद के दिनों में इस पर तमाम प्रश्न उठने लगे कि क्यों नेहरू के जन्मदिन को ही बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है? बुरा नहीं है उठने ही चाहिए ऐसे प्रश्न! अंधानुकरण जितना कम हो उतना ही सही है। पर यह सभी के लिए होना चाहिए ना कि किसी खास उद्देश्य से किसी को टॉरगेट बनाकर।

नेल्सन मंडेला ने नेहरू को अपना हीरो बताया था। मिखाईल गोर्बाचोव ने लिखा था कि नेहरू के भाषण को सुनने के लिए उन्होंने कितना प्रयास किया था। ऐसे तमाम लोग हुए हैं इतिहास में जिन्होंने नेहरू का अनुकरण किया। लेकिन केवल इसी आधार पर हम भी नेहरू का अनुकरण करें सही नहीं हैं। हर पक्ष को सुनकर उसे तर्क की कसौटियों पर कसना बिलकुल जरुरी है। नेहरू ऐसा करते थे इसलिए ही उन्होंने अपने पिता मोतीलाल द्वारा तैयार नेहरू रिपोर्ट का विरोध किया था। इसीलिए ही वह कभी गांधी का अंधानुकरण नहीं किए। उनके अपने विचार थे और उसके प्रति अपनी प्रतिबद्धता थी।

मैं यहां उनके निर्णयों को सही नहीं ठहरा रहा। उनके अपने निर्णय थे जिस पर तत्कालीक परिस्थितियों का दबाव भी रहा होगा। और उनसे भी अच्छे निर्णय लिए जा सकते थे। लेकिन बात बहुत छोटी सी है की हमारी आलोचनाओं का स्तर क्या होना चाहिए। कई बार हम किसी का ‘चारित्रिक हत्या’ कर डालते है और हमे पता भी नहीं चलता। किसी के भी निजता का सम्मान भी किया जाना जरुरी है। नेहरू ही नहीं ऐसे तमाम लोग है जो भारत के निर्माताओं में से एक है। उनकी अच्छी चीज़ों को समझने की आवश्यकता है, और उनकी कमियों को भी जानलेना जरुरी है। और तभी हमारी इतिहासदृष्टि मज़बूत भी होगी।

भारतीय संस्कृति में समा लेने की ताकत है। न जाने कितनी ही विचारधाराओं को यह अपने अंदर समाहित कर बैठी है। नेहरू जैसे लोग उसी के उपज हैं। नेहरू पहले प्रधानमंत्री थे इसलिए उनके द्वारा जो भी किया गया सब पहली बार ही था। लेकिन एक चुनौती भी उन्हीं के साथ थी कि उनके पास कुछ भी पहले से कलमबद्ध नहीं था। अनुभव भी ऐसा नहीं था। दुनिया में विचारधाराओं का बोलबाला था। दुनिया बाज़ार से अलग थी। तब आर्थिक हित विदेश नीति को तय करें आवश्यक नहीं होता था। हां दबाव इसका भी था कि जो बीज बोवा जाएगा पेड़ उसका ही तो होगा। हम सौभाग्यशाली थे कि हमारी पूर्व की पीढ़ी वैचारिक रूप से समृद्ध थी और उससे भी ज्यादा कर्मठ थी।

अभिषेक द्वारा लिखित

अभिषेक बायोग्राफी !

नाम : अभिषेक
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

कविता आज-कल : आलेख “अनुपम त्रिपाठी”

कविता आज-कल : आलेख “अनुपम त्रिपाठी”

अनुपम 467 2020-04-14

इधर कविता की एक ताज़ी दुनिया बन रही है। कुछ समकालीन कवि पूरी तैयारी के साथ आ रहे हैं। 'कविता शब्दों का खेल है'- इस धारणा में बहुत खेला कूदा गया और यह खेल अभी भी जारी है। यह ताज़्ज़ुब करता है कि भाषा कला और साहित्य की ओर से अपनी आँख बंद किए हुए समाज में जहाँ पाठकों की संख्या हाशिये पर जा रही है वहीं लेखकों की संख्या में थोकिया इजाफा हुआ है, खासतौर से कवियों की संख्या में। लिख सब रहे हैं - पढ़ कोई नहीं रहा। पाठकीय क्षेत्र में वस्तु-विनियम का सिद्धांत लगा हुआ है। आप मेरी पढ़ें और मैं आपकी। आत्म चर्चा की ऐसी बीमारी पकड़ी है कि पूछिये मत। इस बिलबिलाई हुई कवियों की भीड़ ने अच्छे कवियों को ढँक लिया है। वैश्विक स्तर पर हिंदी कविता की क्या स्थिति है, इससे हम अनभिज्ञ नहीं हैं। ऐसे में आलोचना की जिम्मेदारी बढ़ जाती है कि वह इस भीड़ से अच्छे कवियों को बाहर निकालकर समाज के सामने प्रस्तुत करे।

क्वारेंटीन : कहानी “राजेंद्र सिंह बेदी”

क्वारेंटीन : कहानी “राजेंद्र सिंह बेदी”

राजेंद्र सिंह बेदी 598 2020-04-14

उर्दू के प्रसिद्ध कथाकार राजिंदर सिंह बेदी (1915–1984) की एक कहानी का शीर्षक है ‘क्वारनटीन’ जो अंग्रेजी राज में फैली प्लेग महामारी को केंद्र में रखकर लिखी गयी है. इस कहानी को पढ़ते हुए आज भी डर लगता है. इसकी कोरोना खौफ़ से तुलना करते हुए जहाँ समानताएं दिखती हैं वहीं यह विश्वास भी पैदा होता है कि मनुष्य इस आपदा को भी पराजित कर देगा. 

 ‘एक डॉक्टर की हैसियत से मेरी राय निहायत मुसतनद है और मैं दावे से कहता हूं कि जितनी मौतें शहर में क्वारनटीन से हुईं, उतनी प्लेग से न हुईं. हालांकि क्वारनटीन कोई बीमारी नहीं, बल्कि वह उस बड़े क्षेत्र का नाम है जिसमें हवा में फैली हुई महामारी के दिनों में बीमार लोगों को तंदुरुस्त इंसानों से कानूनन अलहदा करके ला डालते हैं ताकि बीमारी बढ़ने न पाए. अगरचे क्वारनटीन में डॉक्टरों और नर्सों का काफी इंतजाम था, फिर भी मरीजों की बड़ी संख्या में वहां आ जाने से हर मरीज को अलग-अलग खास तवज्जो न दी जा सकती थी. उनके अपने संबंधियों के आसपास न होने से मैं ने बहुत से मरीजों को बे-हौसला होते देखा. कई तो अपने इर्द-गिर्द लोगों को पे दर पे मरते देखकर मरने से पहले ही मर गए. कई बार तो ऐसा हुआ कि कोई मामूली तौर पर बीमार आदमी वहां के वातावरण में ही फैले जरासीम से हलाक हो गया ।’
- इसी कहानी से
इस कहानी का अनुवाद “रज़ीउद्दीन अक़ील” ने किया है जो आभार के साथ यहाँ प्रस्तुत है.

मनुष्य का जीवन आधार क्या है: कहानी “लियो टॉलस्टॉय”

मनुष्य का जीवन आधार क्या है: कहानी “लियो टॉलस्टॉय”

लियो टॉलस्टॉय 350 2020-03-28

‘वह निराश होकर घर को लौट पड़ा। राह में सोचने लगा—कितने अचरज की बात है कि मैं सारे दिन काम करता हूं, उस पर भी पेट नहीं भरता। चलते समय स्त्री ने कहा था कि वस्त्र अवश्य लाना। अब क्या करुं, कोई उधार भी तो नहीं देता। किसानों ने कह दिया, अभी हाथ खाली है, फिर ले लेना। तुम्हारा तो हाथ खाली है, पर मेरा काम कैसे चले? तुम्हारे पास घर, पशु, सबकुछ है, मेरे पास तो यह शरीर ही शरीर है। तुम्हारे पास अनाज के कोठे भरे पड़े हैं, मुझे एकएक दाना मोल लेना पड़ता है। ‪सात दिन में‬ तीन रुपये तो केवल रोटी में खर्च हो जाते हैं। क्या करुं, कहां जाऊं?’

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.