शम्भू मित्र ने रंगमंच में आधुनिक युग का प्रारंभ किया, अनीश अंकुर

रंगमंच साहित्यक गतिविधिया

अनीश अंकुर 96 2018-11-17

शम्भू मित्र ने रंगमंच में आधुनिक युग का प्रारंभ किया, अनीश अंकुर

शम्भू मित्र ने रंगमंच में आधुनिक युग का प्रारंभ किया

अनीश अंकुर

“शम्भू मित्र ने आम लोगों के दुःख-दर्द को तो अभियक्त किया ही लेकिन उनके द्वारा निर्देशित ‘नवान्न’ ने नाटकों की दुनिया में नए युग का पदार्पण किया। उनके नाटक रक्तकरबी, चार अध्याय जैसे रवीन्द्र नाथ के रंगमंच के अनुकूल न माने जाने वालों नाटकों को मंचित करने का मुश्किल पर ऐतिहासिक काम किया। ऐसा नही कि एक कलाकार का जीवन आम नागरिक से अलग नही है। हमें भी शम्भू मित्र जैसा जीवन जीने का प्रयास करना चाहिए।” ये बातें चर्चित बंग्ला कवि एवम् ‘बिहार हेराल्ड’ के संपादक बिद्युत्पाल ने शम्भू मित्र की जन्मशताब्दी वर्ष पर आधारित आयोजन में बोलते हुए कहा।रंगकर्मियों -कलाकारों के साझा मंच ‘ हिंसा के विरुद्ध संस्कृतिकर्मी’ द्वारा कालिदास रंगालय में आयोजित बातचीत का विषय था ” हमारे समय में शम्भू मित्र”। समारोह में बड़ी संख्या में रंगकर्मी, कलाकार, बुद्धिजीवी, साहित्यकार , सामाजिक कार्यकर्ता मौजूद थे।

बातचीत का प्रारंभ करते हुए बुजुर्ग रंगकर्मी अमिय नाथ चटर्जी ने कहा ” शम्भू मित्र हिंदुस्तान के महान रंगकर्मी थे उन्होंने ऐसे नाटको की रचना की जिनको देखने के लिए लोग सैकड़ों लोग रात-रात भर जागकर टिकट के लिए लाइन में खड़ा होते थे।शम्भू मित्र उनकी पत्नी तृप्ति मित्र ने बंगाल के रंगमंच को उंचाई प्रदान किया।शम्भू मित्र फ़िल्म ‘जागते रहो’ के निर्देशन और इप्टा के नाटक ‘धरती के लाल’ के लिये भी याद किये जाते हैं ”
वरिष्ट रंगकर्मी कुणाल ने शम्भू मित्र के युगांतकारी योगदान को रेखांकित करते हुए कहा ” हम लोग एक ऐसी पीढी हैं जिन्होंने शम्भू मूत्र को अभिनय करते नही देखा सिर्फ उनके बारे में सूना है उनलोगो से जिन्होंने उनको मंच पर नाटक करते देखा। उन्होंने इप्टा के बाद ‘बहुरूपी’ संस्था बनाई।ग्रुप थियेटर की बुनियाद रखी।वैसे तो कई फिल्मो में भी काम किया पर मूलतः वे थियेटर के लिए ही समर्पित रहे।वे मैथिली के लोक नाटक कीर्तनिया से प्रभावित थे। वे काव्य आवृत्ति के लिए भी बेहद चर्चित रहे. बंगाल के कई मह्त्वपूर्ण कवियों की कविताओं का उन्होंने पाठ किया “
रंगकर्मी अनीश अंकुर ने अपने सम्बोधन में कहा ” रवींद्र नाथ ठाकुर के नाटकों की भंगिमा को पकड़ा और अभिनय की भारतीय पद्धति को खोज निकाला ताकि उसका मंचन किया हां सके।चार अध्याय को नक्सल आंदोलन के दौर में अपार लोकप्रियता मिली।शम्भू मित्र के अनुसार वैसे तो रंगमंच कई कलाओं का संगम है पर केंद्र में अभिनेता है।एक अभिनेता साहित्य या चित्रकला की तरह अपने चिन्ह छोड़कर नही जाता ।अभिनय में नश्वरता का बोध है। जिसका महत्व तभी तक है जब वो मंच पर घट रहा होता है। शम्भू मित्र कहा करते थे रंगमंच को वोकेशनल ट्रेनिंग की तरह नहीं देखना चाहिये . नाट्यकला का मूल तत्व में स्वर, आरोह-अवरोह, आवाज को साधने और उसपर नियंत्रण। ‘रक्तकर्बी’ में वो राजा की भुमिका करते हैं जो मंच पर नहीं दिख्ता लेकिन पर्दे के पीछे से अपनी आवाज की बदौलत वो मंच पर अपनी निरन्तर उपस्थिति बनाये रखता है. आम दर्शक मंच सज्जा नहीं नहीं देखने आते हैं वो अभिनेता- अभिनेत्रियों के बहाने मानवीय संपर्को को समझना चाह्ते है. दर्शक को कभी भी कम करके नहीं आंकना चाहिये कि वो ये बातें नही समझ सकता”
वरिष्ठ रंगकर्मी जावेद अख्तर ने शम्भू मित्र की बेटी सांवली मूत्र की पुस्तक से चुनिंदा अंशों का प्रभावशाली पाठ किया।
वरिष्ठ रंगकर्मी उषा वर्मा ने शम्भू मित्र के साथ के अपने संबंधो को साझा किया।
सभा को बिहार आर्ट थियेटर के सचिव कुमार अनुपम और साहित्यकार अरुण शाद्वल ने भी संबोधित किया।
हिंसा के विरुद्ध संस्कृतिकर्मी (रंगकर्मियों-कलाकारों के साझा मंच) के इस सभा में मौजूद लोगों में रंगकर्मी मोना झा, शिक्षाविद अनिल कुमार राय, मृत्युंजय शर्मा, सुमन्त, कवि शाहशाह आलम, प्रत्युष चंद्र मिश्र, नरेंद्र , अरविन्द श्रीवस्तव, कौशलेन्द्र, गौतम गुलाल, मनोज, रवीन्द्र नाथ राय, मृगांक, विष्णु, रघु, सुरेश कुमार हज्जू, शिव कुमार शर्मा, गोपाल शर्मा, बांके बिहारी, बी.एन विश्वकर्मा, पंकज प्रियम, बबलू गांधी, सुब्रो भट्टाचार्य, मणिकाण्त चौधरी, मृगांक आदि।
आगत अतिथियों का स्वागत वरिष्ठ रंगकर्मी रमेश सिंह जबकि समारोह का संचालन और धन्यवाद ज्ञापन युवा रंगकर्मी जयप्रकाश ने किया।

अनीश अंकुर द्वारा लिखित

अनीश अंकुर बायोग्राफी !

नाम : अनीश अंकुर
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

205, घरौंदा अपार्टमेंट ,                                            

 पष्चिम लोहानीपुर

कदमकुऑंपटना-3   

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

मनुष्य होने के सन्दर्भ तलाशते लयबंध: समीक्षा (उमाशंकर सिंह परमार)

मनुष्य होने के सन्दर्भ तलाशते लयबंध: समीक्षा (उमाशंकर सिंह परमार)

उमाशंकर सिंह परमार 303 2019-06-02

बृजेश लय आधारित विधा के सफल और नामचीन कवि हैं। उनके लयबन्धों पर लिखना चुनौती भरा काम है। अमूमन गीतों और गज़लों की समीक्षा में व्याकरण व भावनात्मक आवेगों की प्रतिच्छाया सक्रिय रहती है आलोचक वाह-वाही की शैली में स्ट्रक्चर पर अपनी बात रखकर आलोचना की इतिश्री कर देते हैं। वह गीतों और बन्धों की वैचारिक विनिर्मिति और समाजशास्त्र पर जाना ही नहीं चाहते हैं। इससे हिन्दी कविता के क्षेत्र में गज़ल और गीतों को दोयम माना जाता रहा है। यह कमी विधा की नहीं है आलोचना की कमी है कि गीतों और बन्धों में समाजशास्त्रीय आलोचना को नहीं लागू किया गया वह अब भी अपने परम्परागत आलोचना प्रतिमानों द्वारा मूल्यांकित की जा रही है।

हंसी व सामूहिकता को बचा कर रखता है रंगमंच: आलेख (अनीश अंकुर)

हंसी व सामूहिकता को बचा कर रखता है रंगमंच: आलेख (अनीश अंकुर)

अनीश अंकुर 211 2019-05-25

डिजीडल दुनिया में भले मनुष्य आभासी दुनिया में एक दूसरे से जुड़े रहते हैं लेकिन यथार्थ में उनका सामूहिक जीवन पर बेहद घातक प्रभाव पड़ा है। हमारी सामूहिकता, एक दूसरे के साथ हंसना-बोलना सब पर बुरा प्रभाव पड़ा है। भोपाल के रंगनिर्देशक बंसी कौल ने रंगविदूषक की ऐसी ही अवधारणा पर काम किया है। वे कहते है ‘‘ रंगविदूषक में हम यह मानकर चलते थे कि हमारा काम एक असलहा है। आपको कुदरत ने ऐसा हथियार दिया जिसे बनाए रखना जरूरी है। यदि आप विचार को बचाकर रखोगे आप अपनी आध्यामिकता को बचाकर रखोगे क्योंकि जो हंसी-ठठा होता है, वह सामूहिक होता है। लेकिन आप उसी पूरी हंसी को खत्म कर दोगे तो आप सामूहिकता को भी खत्म कर रहे हैं जिसकी हमारे समाज को बहुत जरूरत है। ’’ नाटक यही काम करता है वो आपका मनोरंजन करता है, हंसाता है। ताकतवर लोगों पर भी हंसने की क्षमता प्रदान करता है। बकौल बर्तोल्त ब्रेख्त ‘‘ जिस नाटक में आप हंस नहीं सकते वो नाटक हास्यास्पद है।’’

तितलियाँ बेचैन हैं: कहानी (सुभाष पंत)

तितलियाँ बेचैन हैं: कहानी (सुभाष पंत)

सुभाष पंत 328 2019-05-01

वह स्वर्ण युग था जिसमें शेर और बकरी एक घाट पानी पीते थे। वर्तमान कितना घिनौना है, यह बताने की मैं कोई आवश्यकता अनुभव नहीं कर रहा। उसे तो तुम देख ही रही हो। मेरा बस चले तो मैं वर्तमान को अतीत में बदल दूँ। दरअसल मेरी मुख्य चिंता ही यह है।’ कछुए ने आध्यात्मिक दर्प के साथ कहा। तितलियों ने अनेक बार इसी किस्म के सनातन वक्तव्य सुने थे, जिनका नाभिनाल अतीत में गड़ा होता है। अतीत के प्रति पूरा सम्मानभाव रखने के बावजूद वे इस तरह के वक्तव्यों से ऊब चुकीं थीं। एक प्रगल्भ तितली ने तुरन्त अपना विरोध प्रकट किया, ’इसका मतलब तो यही हुआ सर कि यह ऐसी व्यवस्था थी जहाँ शेर को शिकार करने के लिए भटकना नहीं पड़ता था। वह उसे बिना परिश्रम के उसी घाट पर उपलब्ध हो जाता था, जहाँ वह पानी पीता था। यह तो सर शोषक की आदर्श स्थिति हुई, शोषित की नहीं।’

स्त्री अधिकारों का 'मौन अनुबंध' कविता समीक्षा (गणेश गनी)

स्त्री अधिकारों का 'मौन अनुबंध' कविता समीक्षा (गणेश गनी)

गणेश गनी 282 2019-04-29

हिंदी साहित्य में ऐसे धूर्त साहित्यकार भतेरे हैं जो स्त्री विमर्श की आंच पर अपनी साहित्यिक रोटियां तो सेकते हैं, जो महिलाओं पर केंद्रित कविताएँ तो लिखते हैं, जो महिला विशेषांक भी निकालते हैं और सम्मेलनों में जाकर भाषण झाड़ते हैं कि उनसे बड़ा औरतों का संरक्षक कोई और है ही नहीं, परन्तु असलियत कुछ और ही होती है और वो यह कि उनके विचार इन सबसे एकदम उलट होते हैं। इनकी मानसिकता तब और भी उजागर हो जाती है जब ये दारूबाज पार्टियों में अपनी घिनौनी सोच को जगज़ाहिर करते हैं। दरअसल हमारे समाज में अब भी स्त्रियों को वो सम्मान और हक अभी नहीं मिले हैं, जिनकी वे वास्तव में हकदार हैं। आज भी अधिकतर चालाक पुरुष उसे अपनी सम्पति से अधिक कुछ नहीं समझते। कवयित्री भावना मिश्रा की अधिकतर कविताएँ ऐसी मानसिकता पर गज़ब की चोट करती हैं। भावना मिश्रा ने पुरुष मानसिकता की कलई शानदार तरीके से खोली है-

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.