“प्रेमचंद से बातें”: रिपोर्ट (अनीता चौधरी)

रंगमंच मंचीय गतिविधिया

अनीता 11 2018-11-17

संकेत रंग टोली और कोवलेन्ट ग्रुप ने प्रेमचंद को उनके 135 वें जन्मदिवस पर लगभग ३ घंटे के कार्यक्रम में रचनात्मक तरीके से याद किया …..|


अनीता चौधरी

अनीता चौधरी

“प्रेमचंद से बातें”

 “प्रेमचंद से बातें”: रिपोर्ट (अनीता चौधरी)img-20150731-wa0013

मुंशी प्रेमचंद के 135 वें जन्मदिवस के अवसर पर हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, मथुरा में ‘संकेत रंग टोली’ और ‘कोवेलेंट ग्रुप’ के तत्वाधान में “प्रेमचंद से बातें” नामक कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें मुंशी प्रेमचंद की कालजयी कहानी “शतरंग के खिलाड़ी” का मंचन किया गया और हाल ही में मध्य प्रदेश नाट्य विद्यालय से प्रशिक्षण प्राप्त कर लौटे कलीम ज़फर ने प्रेमचंद के प्रसिद् उपन्यास “गोदान” को गीत संगीत की सुरमयी रचनात्मकता और विशेष लय बद्धता के साथ कोवेलेंट के साथियों के द्वारा तैयार कराकर प्रस्तुत किया और सभी को रोमांचित कर दिया | इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए हमरंग डॉट कॉम के सम्पादक व कहानीकार हनीफ मदार ने कहा कि आज प्रेमचंद के साहित्य का विभिन्न कला माध्यमों के साथ साहित्यिक पुनर्पाठ की महती आवश्यकता महसूस होने लगी है | जहां हम मौजूदा चुनौतियों के साथ तात्कालिक समय में मुठभेड़ करते पाते हैं जो बदले समय में भी हमारे आज का मूल्यांकन भी है |

 img-20150731-wa0015-1img-20150731-wa0012

कार्यक्रम की शुरुआत मुंशी प्रेमचंद के चित्र पर माल्यार्पण से की गई | कार्यक्रम को तीन चरणों में संपन्न किया गया | पहले चरण में शालिनी श्रीवास्तव के निर्देशन में कहानी “शतरंज के खिलाड़ी” का मंचन किया गया | नाटक में जहाँ एक तरफ पूरा देश आजादी के आन्दोलन में बढ-चढ़ कर अपनी भूमिका दर्ज करा रहा था वही दूसरी ओर सामन्ती स्वरूप में लिपटे मिर्जा और मीर रोशन अली नाम के व्यक्ति सारी चिंताओं को छोड़कर अपनी विलासता पूर्ण जिन्दगी को शतरंज खेलने में व्यतीत कर रहे थे | उन्हें आमजन के किसी भी दुःख- दर्द से सरोकार नहीं था | ठीक आज भी आजादी के लगभग 68 सालों बाद भी इन स्थितियों में कोई बदलाव नजर नहीं आता है | मंच पर नाटक के पात्रों को कलाकारों ने बहुत ही जीवन्तता के साथ खेला हैं | इसके चरित्रों के रूप में मंच पर आकाश, अरविन्द, अंजली, पूनम, गरिमा, अवतार, अनंत, दिव्यं, आदर्श, निशांत, आदि थे | कहानी को उद्घोषक के रूप में हर्षित कश्यप और वेश-भूषा और प्रोपटी विजयलक्ष्मी, तनु तथा प्रकाश परिकल्पना जफ़र अंसारी ने की |

                    img-20150731-wa0008img-20150731-wa0007

कार्यक्रम के दूसरे चरण में कोवेलेंट ग्रुप व अन्य साथियों के साथ दुष्यंत कुमार, अदम गोंडवी और ब्रेख्त के जन गीत तथा छत्तीसगढ़ के कुछ लोक गीतों ने पूरे माहौल को संगीतमय बना दिया | गायक कलाकारों में आयान, आर्यन, अन्तरिक्ष, कपिल, पुलकित, नीरज, विपिन, अभीप्सा, टीकम, देव, अनिरुद्ध, किशन, सोनवीर, अखलेश पुरी आदि थे | कार्यक्रम का तीसरा चरण ओर भी अनोखा रहा | प्रेमचंद के जीवन परिचय से लेकर सम्पूर्ण व्यक्तित्व और पूरे लेखनकर्म को बहुत ही मौलिकता के साथ कलीम ज़फर ने एक कहानी पाठ की तरह बारी- बारी से रचनात्मक क्रम में पढ़वा कर एक खूबसूरत परिचर्चा का रूप दिया | कार्यक्रम का संचालन एम सनीफ मदार द्वारा किया गया | इस कार्यक्रम के करीब करीब सत्तर लोग साक्षी बने | जिनमें बोबीना, एम गनी, सुमन श्रीवास्तव, निर्मला, नीरज, योगिता, गीता, अपर्णा पालीवाल, अर्चना, सपना, पुष्पेन्द्र, सद्दाम हुसैन, धर्मेन्द्र, मेघा, वन्दना, कविता, गुंजन,शालू , पूनम, जीतेंद्र, अजीत, अंगूरी रविन्द्र और संदीप आदि थे |

अनीता द्वारा लिखित

अनीता बायोग्राफी !

नाम : अनीता
निक नाम : अनीता
ईमेल आईडी : anitachy04@gmail.com
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अनीता चौधरी 
जन्म - 10 दिसंबर 1981, मथुरा (उत्तर प्रदेश) 
प्रकाशन - कविता, कहानी, नाटक आलेख व समीक्षा विभिन्न पत्र-पत्रकाओं में प्रकाशित| 
सक्रियता - मंचीय नाटकों सहित एक शार्ट व एक फीचर फ़िल्म में अभिनय । 
विभिन्न नाटकों में सह निर्देशन व संयोजन व पार्श्व पक्ष में सक्रियता | 
लगभग दस वर्षों से संकेत रंग टोली में निरंतर सक्रिय | 
हमरंग.कॉम में सह सम्पादन। 
संप्रति - शिक्षिका व स्वतंत्र लेखन | 
सम्पर्क - हाइब्रिड पब्लिक  स्कूल, दहरुआ रेलवे क्रासिंग,  राया रोड ,यमुना पार मथुरा 
(उत्तर प्रदेश) 281001 
फोन - 08791761875 

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

भारतीय अमूर्तता के अग्रज चितेरे : रामकुमार

भारतीय अमूर्तता के अग्रज चितेरे : रामकुमार

पंकज तिवारी 44 2019-01-15

पहाड़ों की रानी, शिमला में जन्में चित्रकार और कहानीकार रामकुमार ऐसे ही अमूर्त भूदृश्य चित्रकार नहीं बन गये अपितु शिमला के हसीन वादियों में बिताये बचपन की कारस्तानी है, रग-रग में बसी मनोहर छटा की ही देन है इनका रामकुमार हो जाना। अपने में ही अथाह सागर ढूढ़ने वाले शालीन,संकोची रामकुमार बचपन से ही सीमित दायरे में रहना पसंद करते थे पर कृतियाँ दायरों के बंधनों से मुक्त थीं शायद यही वजह है उनके अधिकतर कृतियों का 'अन्टाइटल्ड' रह जाना जहाँ वो ग्राही को पूर्णतः स्वतंत्र छोड़ देते हैं भावों के विशाल या यूँ कहें असीमित जंगल में भटक जाने हेतु। किसी से मिलना जुलना भी कम ही किया करते थे। उन्हे सिर्फ और सिर्फ प्रकृति के सानिध्य में रहना अच्छा लगता था - उनका अन्तर्मुखी होना शायद इसी वजह से सम्भव हो सका और सम्भव हो सका धूमिल रंगों तथा डिफरेंट टेक्स्चरों से युक्त सम्मोहित-सा करता गीत। 

- पंकज तिवारी का आलेख 

मुस्लिम महिला संरक्षण विधेयक: आलेख (अरविंद जैन)

मुस्लिम महिला संरक्षण विधेयक: आलेख (अरविंद जैन)

अरविंद जैन 58 2019-01-15

आदेश ! अध्यादेश !! ‘अध्यादेश’ के बाद, ‘अध्यादेश’

'यह संसद और संविधान की अवमानना है। ‘राजनितिक फ़ुटबाल’ खेलते-खेलते, ‘मुस्लिम महिलाओं की मुक्ति’ के रास्ते नहीं तलाशे जा सकते। संसद में बिना विचार विमर्श के कानून! देश में कानून का राज है या ‘अध्यादेश राज’? बीमा, भूमि अधिग्रहण, कोयला खदान हो या तीन तलाक़। सब तो पहले से ही संसद में विचाराधीन पड़े हुए हैं/थे। क्या यही है सामाजिक-आर्थिक सुधारों के प्रति ‘प्रतिबद्धता’ और ‘मजबूत इरादे’? क्या यही है संसदीय जनतांत्रिक व्यवस्था की नैतिकता? क्या यही है लोकतंत्र की परम्परा, नीति और मर्यादा? यह तो ‘अध्यादेश राज’ और शाही निरंकुशता ही नहीं, अंग्रेजी हकुमत की विरासत का विस्तार है। ऐसे नहीं हो सकता/होगा ‘न्यू इंडिया’ का नव-निर्माण। अध्यादेशों के भयावह परिणामों से देश की जनता ही नहीं, खुद राष्ट्रपति हैरान...परेशान होते रहे हैं।' 

मुस्लिम महिला संरक्षण विधेयक पर गहरी क़ानूनी समझ सामने लाता वरिष्ठ अधिवक्ता 'अरविंद जैन' का आलेख 

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.