नाक के नीचे : आलेख (रूपाली सिन्हा )

रुपाली सिन्हा 3 2018-11-18

समय बीतने के साथ मेरी नाक के नीचे इतनी चीज़ें इकट्ठी हो गयी थीं कि अब देखने में मुश्किल होने लगी थी। आहिस्ता आहिस्ता मानो नज़र धुंधली पड़ने लगी थी और ज़बान? जब नज़र ही साफ़ न हो तो बोलने का क्या अर्थ रहता है? वैसे भी लम्बे समय से सिर्फ जवाब देते-देते सवाल करना मैं लगभग भूल चुकी थी, या शायद करना ही नहीं चाहती थी। असफल कहलाते- कहलाते अब सफलता से पहचान भी मिट ही गयी थी। वैसे यह मेरी अपनी सोची-समझी रणनीति थी। एकबार ‘असफल’ बन जाने के बाद आपसे सारी अपेक्षायें समाप्त हो जाती हैं। धीरे-धीरे आप खुद से भी कोई अपेक्षा रखना भूल जाते हैं। कितनी बेफिक्री का एहसास होता है। आप चैन की बंसी बजाते हैं क्योकि आपको खुद को साबित नहीं करना…..

नाक के नीचे

रुपाली सिंहा

आप सबने नाक के नीचे… वाला मुहावरा सुना ही होगा। इसका मतलब होता है कि आपके बिलकुल नज़दीक या आँखों के सामने कोई बात हो जाये और आपको खबर भी न हो या हो भी तो आप उसे नज़रअंदाज़ कर रहे हों। पर ये तो हुई मुहावरे की बात। नाक की अवस्थिति ही ऐसी है कि आँखे उसे ठीक प्रकार देख नहीं पातीं। कभी आपने कोशिश की है अपनी ही नाक के नीचे देखने की? आँखें भैंगी हो जाएँगी पर आप देखने में सफल नहीं हो पाएंगे बशर्ते कि आप आईने का सहारा न लें। कोई भी चीज अगर हमारी आँखों के बहुत नज़दीक हो तो वह हमें स्पष्ट दिखाई नहीं देती है। साफ़-साफ़ देखने के लिए एक अपेक्षित दूरी की ज़रूरत पड़ती है, इसके अभाव में चीज़ें धुंधली ही दिखती हैं। असल ज़िन्दगी में नाक के नीचे की जगह बड़ी ही महफूज़ जगह होती है। आपके नज़दीक भी रहती है और दूर भी। दूर ऐसे कि आप की आँखें सचमुच उसके नीचे देख नहीं पातीं और नज़दीक ऐसे कि आप उसे खुद से अलग भी नहीं कर सकते। तो जो भी बातें आपको तंग करें,परेशान करें लेकिन उन्हे खुद से दूर करने में नुकसान नज़र आए ,उन्हें नाक के नीचे रख दीजिये। दोनों समस्याएँ खुद ब खुद हल हो जाएँगी।
वापस आती हूँ मैं नाक के नीचे के मुद्दे पर। मैंने भी नाक के इतने नज़दीक ढेरों चीज़े रखीं थीं कि उनके होने का एहसास तो मुझे होता था पर वे मुझे दिखती नहीं थीं। बेशक ऐसा मैंने जान-बूझकर किया था क्योंकि मैं उन्हें देखना नहीं चाहती थी। क्यों? खुद के ऊपर से परतें उखाड़ना, रगड़ना ,नापना-तौलना अव्वल तो बहुत दिलेरी का काम है और कभी आप ये दिलेरी दिखाते भी हैं तो तब जब ‘कोई दूसरा नहीं होता’ । धीरे-धीरे आप खुद को भी ये दिलेरी दिखाना (जान बूझकर) भूलने लगते हैं।क्योंकि यह काफी तकलीफदेह प्रक्रिया भी होती है। सो जानबूझ कर खुद को कष्ट देना कहाँ की, कौन सी समझदारी है भला ! वैसे भी अब इतनी दूर निकल आयी हूँ कि पीछे मुड़कर देखने से
डर लगता है कि कहीं कोई उघड़ी परत न दिख जाये। क्या था यह डर ? असुरक्षा, हीनता बोध या और कुछ?पर इंसान एक परत का होता है क्या भला?सारे ही लोग बहु परतीय होते हैं, कम से कम मैंने तो एक परत का इंसान नहीं देखा है अब तक। सभी इंसानो को जटिल ही पाया है मैंने। शायद अरस्तु मनुष्य की अपनी दी हुई परिभाषा में जटिल जोड़ना भूल गए।
समय बीतने के साथ मेरी नाक के नीचे इतनी चीज़ें इकट्ठी हो गयी थीं कि अब देखने में मुश्किल होने लगी थी। आहिस्ता आहिस्ता मानो नज़र धुंधली पड़ने लगी थी और ज़बान? जब नज़र ही साफ़ न हो तो बोलने का क्या अर्थ रहता है? वैसे भी लम्बे समय से सिर्फ जवाब देते-देते सवाल करना मैं लगभग भूल चुकी थी, या शायद करना ही नहीं चाहती थी। असफल कहलाते- कहलाते अब सफलता से पहचान भी मिट ही गयी थी। वैसे यह मेरी अपनी सोची-समझी रणनीति थी। एकबार ‘असफल’ बन जाने के बाद आपसे सारी अपेक्षायें समाप्त हो जाती हैं। धीरे-धीरे आप खुद से भी कोई अपेक्षा रखना भूल जाते हैं। कितनी बेफिक्री का एहसास होता है। आप चैन की बंसी बजाते हैं क्योकि आपको खुद को साबित नहीं करना। वैसे भी सफल बन कर, कहला कर क्या करना है?सफलता हमेशा ही आपको ऐसी कसौटी की तुला पर लटकाये रखती है जहाँ से उतर कर आप अपनी मर्जी से टहल-घूम नहीं सकते। वहां असफल होने की कोई सम्भावना नहीं। इसीलिए मैंने जान- समझ कर असफलता की चादर तान ली थी जिसके नीचे चैन और सुकून था। सम्मान और गरिमा को अपनी नाक के ठीक नीचे दबा दिया था। उन्हें लेकर करना भी क्या था? वे नारी मुक्ति की मीटिंगों में ही भली लगती थीं मुझे। मेरी ज़िन्दगी बिना मेरी मशक्कत के ही भली-चंगी गुज़र रही थी। खुद को साबित करने का व्यायाम व्यर्थ था। जीवन का नुस्खा मैंने पा लिया था। अब नाक का सवाल मुझे बेकार का सवाल लगता। हाँ ,नाक के नीचे के मुहावरे को मैंने जिंदगी में कुशलता से प्रयोग करना सीख लिया था।

धीरे-धीरे मेरी नाक के नीचे का बोझ बढ़ता ही जा रहा था। मुझे कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया पर देखी हुई उस औरत की तस्वीर याद आने लगी जिसके चेहरे पर मधुमक्खी का छत्ता था और वह अपने पति का हाथ पकड़ कर चल रही थी। आखिर चेहरे पर छत्ता उगाने में ज़रूर उसकी अपनी ख्वाहिश और चुनाव का कुछ अंश तो रहा ही होगा। मेरा तो चेहरा सलामत था, बोझ तो सिर्फ नाक के नीचे थी। हाँ, सब ठीक ही चल रहा था।
पर कुछ दिनों से ऐसा महसूस हो रहा था कि जैसे-जैसे मेरी बाहरी आँखों के आगे नाक के नीचे का अम्बार बढ़ता जा रहा था,जिससे मुझे देखने में बाधा उत्पन्न होती थी , मेरे अंदर कोई तीसरी आँख पैदा हो गयी थी जिसकी नज़र बहुत पैनी थी। मैं अगर परेशान थी तो अपनी इस नयी नज़र से। मेरी शांति धीरे धीरे भंग होने लगी थी जिसका मुझे बहुत मलाल था, आखिर बहुत भारी कीमत चुकाई थी मैंने इसके लिए। जैसे-जैसे नाक के नीचे का बोझ बढ़ रहा था मेरे अंदर का खालीपन भी बढ़ता जा रहा था। ऊपर से ये तीसरी आँख। यह परत-दर परत छुपे मेरे ‘मैं ‘ को मेरे न चाहने के बावजूद गाहे-बगाहे देख ही लेती थी जिसे मैंने अपनी ही नाक के नीचे सालों से दबा रखा था। आप पूछेंगे मैंने ऐसा क्यों किया था ? जवाब सरल है। हमारा देखना मात्र देखना भर नहीं होता है, देखकर मन में सवाल उठते हैं, सही-गलत की बात होती है। नाक के नीचे रखने से ,वो भी अपनी नाक के ही नीचे ,आप सारे सवालों से बचे रहते हैं,क्योंकि आपको नाक के नीचे की चीज़ें दिखाई नहीं देतीं। मैंने भी बड़ी चालाकी से अपनी सारी उन चीज़ों को अपनी नाक के नीचे दबा दिया था जिनके दिखने से मुझे परेशानी होती और मेरी शांति भंग होती। अपने साथ हुई बेवफाइयाँ,अपमान सबकुछ मेरी नाक के नीचे था। उनकी जगह मैंने सहिष्णुता,प्रेम, त्याग की चादर ओढ़ ली थी जो सबको बहुत अच्छी लगती थी। मैं हारना नहीं चाहती थी सो मैंने त्याग का दुपट्टा ओढ़ लिया ,जब प्रेम अपनी ऊष्मा खो बैठा था और मुक्ति चाहता था तब वह मेरे लिए प्रतिष्ठा बन गया था तब मैंने स्पंदनहीन प्रेम को मुक्त करने के बजाय उसे अपनी नाक के नीचे रख लिया। इस तरह चाहे जैसे भी, वह मेरे पास बना रहा। अपनी असुरक्षा को कर्तव्यपरायणता का नाम दे दिया था,अपनी कमज़ोरी को उदारता का। हालांकि नाक के नीचे के अम्बार से कभी-कभी मेरा दम बुरी तरह घुटने लगता था।कभी-कभी गिरने के डर से जब अकेली होती तो घुटनो के बल भी चलने लगती थी। ऐसे चलने में कष्ट तो बहुत होता था पर सुरक्षा का एहसास होता था।
काफी वक्त बीत चुका था। बच्चे अपने-अपने नीड़ों की तरफ उड़ चले थे… मेरे पास अब वक़्त ही वक़्त था। .. और इस खाली वक्त में अक्सर ही मैं बहुत बेचैनी और खालीपन से भर जाती। तब मन करता नाक के नीचे के बोझ को उतार फेकूँ पर यह इतना आसान नहीं था। जीवन भर लगाए गए गणित का सारा हिसाब शून्य में ही दिख रहा था मुझे। तब लगता यह जगह सबसे खतरनाक जगह है। इसकी झाड़-बुहार सबसे ज़रूरी है नहीं तो यह नज़र को धुंधला कर देती है और बाद में अंधा तक बना देती है। आपके पास परजीवी बन कर जीने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता।
एक दिन तय ही कर लिया इस बोझ से मुक्त होने का। लेकिन आदत पड़ चुकी थी इस बोझ की सो तय किया कि इस बोझ को धीरे-धीरे ही उतारा जाये। सबसे पहले मैंने सबसे नीचे दबे मेरे ‘मैं’ को निकाला, झाड़ा-पोछा। इस एक को निकालने से ही मुझे बहुत हल्का महसूस हो रहा था। मुझे साँस लेने में पहले की अपेक्षा बहुत कम तकलीफ हो रही थी अब। बोझ को उतारने का हौसला बुलंद होता गया। हाँ, इससे जीवन का संतुलन थोड़ा गड़बड़ा रहा था पर मुझे भरोसा हो गया था कि जब इतने बोझ को इतने सालों तक संभाल लिया तो बोझ उतार कर भी संभल ही जाऊँगी।जाने कहाँ से एक आवाज़ सुनाई दी , ‘ खुद को जानने,समझने और पाने की कोई उम्र नहीं होती’।

रुपाली सिन्हा द्वारा लिखित

रुपाली सिन्हा बायोग्राफी !

नाम : रुपाली सिन्हा
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

परवाज़ : कहानी (अनीता चौधरी)

परवाज़ : कहानी (अनीता चौधरी)

अनीता 12 2018-12-10

जन्मदिन पर विशेष

कहानी में सौन्दर्य या कलात्मक प्रतिबिम्बों की ही खोज को बेहतर कहानी का मानक मान कर किसी कहानी की प्रासंगिकता तय करना भी वक्ती तौर पर साहित्य में परम्परावादी होने जैसा ही है | तीव्र से तीव्रतम होते संचार और सोसल माद्ध्यम के समय में वैचारिक प्रवाह और भूचाल से गुजरती कहानी भी खुद को बदल रही वह भी यदि गहरे प्रतीक और कला प्रतिबिम्बों के गोल-मोल भंवर में पाठक को न उलझाकर सीधे संवाद कर रही है वह सामाजिक ताने-बाने में पल-प्रतिपल घटित होती उन सूक्ष्म घटनाओं को सीधे उठाकर इंसानी वर्गीकरण और संवेदनाओं को तलाश रही है बल्कि खुद के वजूद के लिए संघर्ष के साथ उठ खड़ी हो रही है | कहानी का यह बदलता स्वरूप साहित्यिक मानदंड को भले ही असहज करे किन्तु वक़्त की दरकार तो यही है |

“हमरंग” की सह-संपादक 'अनीता चौधरी' की ऐसी ही एक कहानी......उनके जन्मदिवस पर बधाई के साथ | - संपादक

'दक्खिन टोला' 'पत्थगलढ़ी' का पाठ: (कमलेश)

'दक्खिन टोला' 'पत्थगलढ़ी' का पाठ: (कमलेश)

विजय शर्मा 26 2018-12-04

‘सृजन संवाद’ की नवंबर मास की गोष्ठी में रांची से आये 'दक्खिन टोला' जैसी चर्चित कहानी संग्रह के कथाकार कमलेश ने अपनी कहानी 'पत्थलगड़ी' का पाठ किया। कमलेश को सुनने स्थानीय लेखक, साहित्यकार व साहित्यप्रेमी एकत्र हुए। 'पत्थलगड़ी' जल, जंगल और जमीन बचाने की कहानी है। यह आदिवासियों के अंदर के उनके प्रकृति प्रेम और उसके प्रति समर्पण को दर्शाती कहानी है। इस कहानी में इस बात का जिक्र है कि किस प्रकार एक आदिवासी परिवार की तीन पीढ़ी जंगल और पहाड़ को बचाने के लिए अपनी जिंदगी कुर्बान कर देती है। आज भी यह आम धारणा बनी हुई है कि जल, जंगल, जमीन की बात करने वाले को पुलिस और सरकार माओवादी मानती है। पिछले दिनों खूंटी में हुए पत्थलगड़ी प्रकरण को संदर्भ कर लिखी गयी यह अदभुत कहानी है।

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.