नज़ीर अकबराबादी के काव्य में चित्रित मानव-समाज: शोध आलेख (सालिम मियां)

शोध आलेख कानून

सलीम मिया 59 2018-11-18

“जनसामान्य से जुडे़ होने के कारण नज़ीर ने आर्थिक विपन्नता से ग्रस्त एवं अभिशप्त लोगों की आह और कराह को किसी चैतन्य पुरूष के समान सुना और इसके कठोर आघात को आत्मिक धरातल पर अनुभव किया और उन इंसानी कराह को ‘रोटियाँ’, ‘पेट की फिलासफी’, ‘पेट’, ‘खुशामद’, ‘आदमीनामा’, ‘कौड़ी’, ‘पैसा’, ‘रूपये की फिलॉसफी’, ‘जरे, ‘मुफलिसी’ इत्यादि रचनाओं में अभिव्यक्त करने वाले “जनकवि नज़ीर” की रचनाओं में तत्कालीन भारतीय समाज और मानव जीवन के अनेक बिम्बों को खोजने का प्रयास करता शोधार्थी ‘सालिम मियां‘ का आलेख ……| – संपादक

नज़ीर अकबराबादी के काव्य में चित्रित मानव-समाज 

सालिम मियां

सालिम मियां

मानव को समाज का निर्माता कहा जाता है तो दूसरी ओर उसे समाज की उपज कहने में भी कोई संकोच नही होना चाहिए। समाज मानव के लिये स्वाभाविक भी है और कृत्रिम भी क्योंकि मानव स्वभाववश समाज में रहता है वह सामाजिक प्राणी है। समाज में उसके व्यक्तित्व का विकास भी सम्भव है। आवश्यकताओं की पूर्ति एवं भाषा, शिक्षा और संस्कृति के आधार पर समाज को व्यक्ति के साधन के रूप में स्वीकार किया जाता है। (1) विश्व साहत्यि को ध्यान से देखने पर ज्ञात होता है कि सभी महान साहित्यकारों के साहित्य में उनके अपने समय का समाज प्रतिबिम्बित होता है। साहित्य एक ऐसा महŸवपूर्ण साधन है जिसमें समाज विशेष की प्रगति तथा पतन की मनोस्थिति सभी कुछ देखी जा सकती है। जिन्सवर्ग के अनुसार -‘‘समाज व्यक्तियों का वह समूह है जो किन्ही सम्बन्धों या तरीकों द्वारा संगठित है और जो कि उन्हें उन दूसरे लागों से अलग करता है जो इन सम्बन्धों में शामिल नहीं होते अथवा जो उनसे व्यवहार में भिन्न हों।‘‘ नज़ीर अकबराबादी एक श्रेष्ठ कवि हेाने के साथ साथ प्रतिभाशाली गद्य लेखक भी थे। इनके काव्य की आधारभूमि तत्कालीन मानव समाज ही है। इनके काव्य में मानव और समाज का चित्रण पूर्ण रूप से कलात्मक भाषा में हुआ है। कविवर नज़ीर ने अपने युग के समाज का आर्थिक और सामाजिक चित्रण बहुत ही प्रत्यक्ष और मर्मस्पर्शी रूप में किया है । इनको संसार की निस्सारता और स्वार्थपरता का गहरा अनुभव था। वह जीवन को सरलता और सादगी से जीने के पक्षधर थे। उस समय भारतीय समाज के दो बडे़ वर्ग हिन्दू और मुस्लिम अभावमयी परिस्थितियों में अपना जीवन निर्वाह कर रहे थे। नज़ीर ने हिन्दू और मुस्लिम समाज की अपेक्षा केवल भारतीय समाज की विचारधारा को स्वीकार किया । आर्थिक दृष्टि से समाज उस समय उच्च मध्य और निम्न वर्गों में बंटा हुआ था। ‘‘नज़ीर ने सामन्य वर्ग के साथ संवेदना के स्तर पर एक होकर जीवन-यापन किया था। अतः नज़ीर की दृष्टि जनसामन्यपरक दृष्टि थी।’’ (2) जो जनसाधारण को उन्हीं की ज़मीन पर खडे होकर देखती है और उनके अभावों आवश्यकताओं का यथार्थ स्वरूप प्रस्तुत करती है।

साभार google से

साभार google से

नज़ीर की जो रचनाएँ समाज से सम्बन्धित हैं वे उनके यथार्थबोध की परिचायक हैं । इस समाज में रहकर मनुष्य एक दूसरे के निकट आता है किन्तु परस्पर सामाजिक बंधनों के जाल में फँसकर यह भूल जाता है कि सामाजिक उपाधिंया और उपलब्धियां विश्वास करने योग्य नही हैं। मनुष्य को यह नही विस्मृत करना चाहिये कि उसके तन का झोपड़ा अजर-अमर नहीं है। इस विचार की पुष्टि नज़ीर की ‘दुनिया के मरातिब काबिले ऐतवार नहीं’ ‘मरातिबे दुनिया महज बेसबात है’ ‘दुनियाँ के तमाशे’ और ‘तन का झोपड़ा’ आदि रचनाओं में फलीभूत होती है। समाज की कुरूपता ही समाज का यथार्थ नहीं होती अपितु समाज में प्रसन्नता एवं सुन्दरता के भी आयाम होते हैं। नज़ीर की सामाजिक दृष्टि समाज के उस सुन्दर आनन्दमयी स्वरूप पर टिकी रही और इसे उन्होनें यथार्थ सामाजिक चेतना के साथ प्रस्तुत किया।
नज़ीर ने अपनी व्यसक बुद्धि के आधार पर मानव-प्रकिृत के संबंध में इस यथार्थ का बोध ग्रहण किया कि मनुष्य की प्रवृति में साधुता और दुष्टता जन्मजात हैं। नज़ीर ने साधुता से संबंधित चित्रण करके युगीन समाज में मानवतावादी दृष्टिकेाण की पुष्टि की-

‘‘जो और की बस्ती रखेउसका भी बसता है पुरा। 
जो और के मारे छुरीउसके भी लगता है छुरा। 
जो और की तोडे़ छुरीउसका भी टूटे है छुरा। 
जो और की चीते बदीउसका भी होता है बुरा। 
कलजुग नहींकरजुग है यहयां दिन की दे और रात ले। 
क्या खूब सौदा नक्द हैइस हाथ दे उस हाथ ले।‘‘ (3)

नज़ीर ने मानव जीवन के विभिन्न संदर्भों एवं पक्षों यथा सामाजिक, धार्मिक, एवं सांस्कृतिक स्तर पर किया। इनके अंतर्गत मानव प्रकिृत, परिवार, मानवता, दुष्टता, साधुता, विरोध, अन्योन्याश्रण, रीति-रिवाज, ईश्वर का स्वरूप, अस्तित्व, भक्ति, स्तुति, विश्वास, स्थूल उपकरण, नमाज़-पूजा, रोज़ा-व्रत, मंदिर-मस्जिद, ज़ियारत-तीर्थ जीवन से लेकर मत्यु तक के समस्त संस्कार जन्मजात संस्कार, अंत्येष्टि संस्कार, अर्थ की महत्ता, अर्थ-अर्जन, अर्थ-व्यय, आमोद-प्रमोद संस्कार, क्षणिकता, निर्धनता, प्रकोप एवं आर्थिक संपन्नता तथा विपन्नता इत्यादि विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। ‘‘समाज की आर्थिक विपन्नता सामाजिक प्रवृत्तियों को कई रूपों में प्रभावित करती है। एक तरफ समाज में सामाजिक मूल्यों का हृास होता है तो दूसरी ओर सामाजिक चेतना से स्वाभिमान गौरव आदि जैसे नियामक तत्वों का लोप हो जाता है।‘‘ (4) सूक्ष्मदर्शिता एवं पारदर्शिता जैसे गुणों से ओत प्रोत नज़ीर का विरोध संबंधी यथार्थबोध वास्तव में सहयोग और विकास का आधार है। नज़ीर ने सामाजिक विषमताओं और पारस्परिक अवगुणों का विरोध कर यह दर्शाने का प्रयास किया कि मनुष्य को दुर्भावना और बुराइयों को त्यागकर सद्भावना और अच्छाइयों को स्वीकारना चाहिए । कहीं उन्होने मुफ़लिसी का विरोध किया तो कहीं दार्शनिक दृष्टिकोण के माध्यम से अपनी भावनाओं और विचारों का काव्यात्मक चित्रण किया यथा-

‘‘चिड़िया ने देख ग़ाफ़िलकपड़ा उधर घसीटा । 
कौए ने वक्त पाकरचिड़या का पर घसीटा । 
चीलों ने मार पंजेकौए का सर घसीटा ।
जो जिसके हाथ आयावह उसने घर घर घसीटा। 
हुशियार यार जानीयह दश्त है ठगों का । 
या टुक निगाह चूकीऔर माल दोस्तों का।‘‘ (5)

आदमी के रूप में समाज के पतन का जो चित्र नज़ीर ने प्रस्तुत किया उसमे तत्कालीन समाज में विषमता और अराजकता की स्थिति स्पष्ट दृष्टिगोचर होती है। नज़ीर ने एक दूसरे की निर्भरता एवं आवश्यकता का चित्रण विभिन्न कविताओं के माध्यम से किया । ‘आदमीनामा’ कविता तो अन्योन्याश्रित समाज की पूर्ण रूप से अनुपम एवं अतुलनीय चित्रवती है। कवि नज़ीर कहते हैं-
‘‘बैठे हैं आदमी ही दुकाने लगा-लगा । और आदमी ही फिरते हैं रख सर पे खोमचा।
कहता है कोई लो कोई कहता है ला रे ला। किस किस तरह की बेचे हैं चीज़े बना बना। और मोल ले रहा है सो है वह भी आदमी।’‘ (6)
कवि नज़ीर ने विवाह की महत्ता एवं सार्थकता को स्वीकारते हुए प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से मनुष्य के दाम्पत्य जीवन का वर्णन किया । उन्होंने विभिन्न सामाजिक एवं पारिवारिक सन्दर्भों यथा बालक के जन्म पर माता-पिता का सुख चैन प्राप्त करना, आत्म विभोर और आन्दोलित हो जाना घर परिवार में अनेक ऐसे रीति रिवाजों के माध्यम से आनन्दोल्लास को प्रकट करना भारतीय समाज में सदा सर्वदा दर्शनीय रहा है। नज़ीर ने ‘जन्म कन्हैयाजी’ नामक कविता में यह तथ्य प्रस्तुत किया है। जिस घर में बालक का जन्म होता है वहाँ प्रत्येक वाणी का सुख चैन दोबाला हो जाता है-

‘‘है रीत जन्म की यों होती जिस घर में बाला होता है । 
उस मंडल में हर घर भीतर सुख चैन दोबाला होता है । 
सब बात विथा की मन भूले है जब भोला भाला होता है ।
आनन्द मदीले बाजत हैं नित भवन उजाला होता है।‘‘ (7)

युवावस्था के आमोद-प्रमोद का वर्णन करते हुए कवि नज़ीर ने ‘जवानी के मज़े’ कविता का शुभारम्भ कया । उन्होंने जवानी को एक ऐसी अवस्था की संज्ञा दी जिसे देखकर बहारें भी आश्चर्यचकित रह जाती है-

‘‘क्या ऐश की रखती है सब आहंग जवानी 
करती है बहारों के तई दंग जवानी 
हर आन पिलाती है मैं और बंग जवानी 
करती है कहीं सुलह कहीं जंग जवानी।‘‘ (8)

नज़ीर का समय आर्थिक दृष्टि से पूर्णता उथल पुथल और आर्थिक विपन्नता का समय था। यदि आर्थिक विकास की दष्टि से देखें तो इस सामन्तवादी काल में समाज के सामान्य सदस्यों की स्थिति गंभीर दयनीय एवं सोचनीय थी। डॉ.अब्दुल अलीम के अनुसार-‘‘नज़ीर अकबराबादी का काव्य आर्थिक विकास की दृष्टि से सामंतवादी काल का था। सामंतवादी समाज में मुख्यतः दो वर्ग होते हैं एक शाषक वर्ग, दूसरा शोषित वर्ग। इन दोनों के जीवन की परिस्थितियों के दो छोर होते हैं एक के जीवनयापन के लिये अगणित अपार साधनों की आवश्यकता होती है और दूसरे के लिये आवश्यकता की पूर्ति करना भी मुश्किल होता है।‘‘ (9)
जनसामान्य से जुडे़ होने के कारण नज़ीर ने आर्थिक विपन्नता से ग्रस्त एवं अभिशप्त लोगों की आह और कराह को किसी चैतन्य पुरूष के समान सुना और इसके कठोर आघात को आत्मिक धरातल पर अनुभव किया इस संबंध में इनकी ‘रोटियाँ’, ‘पेट की फिलासफी’, ‘पेट’, ‘खुशामद’, ‘आदमीनामा’, ‘कौड़ी’, ‘पैसा’, ‘रूपये की फिलॉसफी’, ‘जरे, ‘मुफलिसी’ इत्यादि रचनाएँ प्रस्तुत की-

‘‘जब आदमी के पेट में आती हैं रोटियाँ।
फूले नहीं बदन में समाती हैं रोटियाँ।
आँखें परी-रूखों से लड़ाती हैं रोटियाँ। 
सीने ऊपर भी हाथ चलाती हैं रोटियाँ।‘‘ (10)

वास्तव मे रोटी की समस्या मानव जीवन के संर्घष की समस्या है। इस समस्या से जूझता समाज नज़ीर के मन-मस्तिष्क को झकझोंर देता है। ‘‘नज़ीर ने अपनी कविता में दरिद्रता का जो जीता-जागता, मर्मस्पर्शी, हृदयविदारक तथा यथार्थ चि़त्र प्रस्तुत किया है वह निश्चित रूप से उनके द्वारा अपने समाज का अनुभूत यथार्थ है व कवि के हृदय के भावों का स्वाभाविक स्फुरण है।‘‘ (11) नज़ीरकालीन समाज में सबसे अधिक दरिद्रता कलाकारों को प्रभावित कर रही थी। मुगल साम्राज्य के पतन के साथ साथ विभिन्न रजवाड़ों में भी कलाकारों को शरण देने की सामथ्र्य नहीं थी । कलाकारों की उस स्थिति का चित्रण नजी़र की कविताओं में स्पष्ट मिलता है। उस समाज में दरिद्रता की बेड़ियों में जकड़ा संगीतग्य अपने पेट की भूख शान्त करने के लिये एक पाव आटे के लिये तमूरे को अपने पास रखता है किन्तु मन स्वस्थ ना होने के कारण उस समय असमय का ध्यान नहीं रहता और गाने के वक्त समय की माँग का ध्यान नहीं रखता-

जब मुफलिसी से होवे कलावन्त का दिल उदास।
फिरता है ले तंबूरे को हर घर के आस पास।
एक पाओ सेर आटे की दिल में लगा के आस।
गेरी का वक्त होवे तो गाता है वह विभास ।
यां तक हवास उसके उड़ाती है मुफलिसी ।

वर्तमान समय में योग्यता और कुशलता का कोई महत्त्व नहीं रह गया है समाज में चापलूसी और खुशामद के ज़रिये कोई भी उन्नति प्राप्त की जा सकती है। व्यक्ति अपनी स्वार्थपूर्ति के लिये अपने व्यक्त्तिव को खोकर सब कुछ खुशामद से ही प्राप्त करेगा तो उस समाज का क्या होगा । खुशामदी लोगों की बाढ़ आ जाएगी खुशमद का साम्राज्य होगा ईमानदारी और योग्यता का कोई मूल्य नहीं रहेगा। नज़ीर ने तत्कालीन समाज का सूक्ष्म निरीक्षण किया था । वे वास्तविक स्थिति से परिचित थे। नज़ीर के काव्य का संभवता यही रूप हो गया था जो उनकी कविता ‘खुशामद‘ की निम्न पंक्तियों से स्पष्ट होता है-

‘‘चार दिन जिसको किया खुशामद से झुक के सलाम
वह भी खुश हो गया अपना भी हुआ काम में काम ।
बड़े आकिल बड़े दाना ने निकाला है यह दाम।
खूब देख तो खुशामद ही की आमद है तमाम।‘‘12

नज़़ीर का समय राजनीतिक उथल-पुथल और विदेशी आक्रमण का समय था। शासकों पर विलासिता का रंग चढ़ा हुआ था। सामाजिक अर्थव्यवस्था चरमरा उठी थी। समाज के सभी वर्ग बेरोज़गारी के शिकार हो रहे थे। समाज के पूँजीपति और भूमिपति भी इस समस्या से जूझ रहे थे। बेरोज़गारी का यह प्रभाव केवल सामान्य जनता ही पर नहीं था अपितु सत्ता के रक्षक सैनिकों पर भी था। सैनिक दरिद्रता से तंग आकर अपने घोड़े बेंच रहे थे। समय से वेतन और खाने-पीने का भी गंभीर संकट उपस्थित हो गया था। एक ओर समाज में सामाजिक मूल्यों का हृास हो रहा था दूसरी ओर सामाजिक चेतना से स्वाभिमान, गौरव एवं आत्मसम्मान अगोचर हो रहे थे। समाज की आर्थिक विपन्नता स्वास्थ्य को भी प्रभावित करती है। व्यक्ति के पास स्वास्थ्य और आत्मसम्मान दो ही अमूल्य निधियाँ होती हैं किन्तु यह खतरे में थीं। नजी़र एक मानवतावादी कवि थे । वह समाज का निर्माण मानवतावादी विचार धारा के अनुरूप चाहते हैं। डाॅ.अबुल्लेस सिद्दीकी के अनुसार -‘‘उर्दू शायरी की तारीख में शायद ही दूसरा व्यक्ति इंसानियत का इतना बड़ा अलम्बदार हुआ है जितना नज़ीर था।’’ (13) किसी स्वस्थ समाज के निर्माण में धार्मिक समन्वय आवश्यक है। भारत में विभिन्न धर्म और सम्प्रदायों के लोग रहते हैं। बिना धार्मिक समन्वय के भारतीय समाज स्वस्थ और उन्नतशील दिशाओं की ओर अग्रसर नहीं हो सकता यही कारण है कि नजी़र के काव्य में समाज का रूप धार्मिक समन्वयवाद की आधारशिला पर खड़े हुए समाज का रूप ही हैं। मानवतावाद हर प्रकार की भेदबुद्वि को दूर करके संपूर्ण समाज को मानव-मानव में अद्वैत भाव की स्थापना करके एक सू़त्र में बंाध देता है। कवि नज़ीर कहते हैं-

‘‘झगड़ा ना करे मिल्लतो -मज़हब का कोई यां।
जिस राह पे जो आन पड़े खुश रहे हरआं।
जुन्नार गले या कि बगल बीच हो कुरां।
आशिक तो कलन्दर है न हिन्दू न मुसलमां।’’14

अतः संक्षेप में कहा जा सकता है कि नज़ीर की कविता अपने समय से आगे की कविता थी। यह उनकी दूरदृष्टि ही कही जा सकती है कि उन्होंने भविष्य की परिस्थतियों को पहले भांप लिया था और उस समय ही हिंदू-मुस्लित एकता पर काव्य रचना की। अपने काव्य के माध्यम से जनसामान्य को जागरूक करने का प्रयास भी किया।

संदर्भ-सूची

1-डाॅ.मुहम्मद इलियास, मध्य युगीन सूफ़ी प्रेमाख्यानक काव्यों का समाज-दर्शन, पृष्ठ 149
2-डाॅ.अब्दुल अलीम, नज़ीर अकबराबादी और उनकी विचारधारा, वााणी प्रकाशन,
दरियागंज, नई दिल्ली, संस्करण 1992, पृष्ठ 157-158
3-सं॰ प्रो॰ नजी़र मु॰, नजी़र ग्रन्थावली, हिंदी संस्थान उत्तर प्रदेश, लखनऊ, संस्करण
1992, पृष्ठ 110
4-डाॅ. अब्दुल अलीम, नज़ीर अकबराबादी और उनकी विचारधारा, वााणी प्रकाशन,
दरियागंज नई दिल्ली, संस्करण 1992, पृष्ठ 166
5-सं॰ प्रो॰ नजी़र मु॰, नजी़र ग्रन्थावली, हिंदी संस्थान उत्तर प्रदेश, लखनऊ, संस्करण
1992, पृष्ठ 237
6-वही, पृष्ठ 241
7-वही, पृष्ठ 554
8-वही, पृष्ठ 283
9-डाॅ.अब्दुल अलीम, नज़ीर अकबराबादी और उनकी विचारधारा, वााणी प्रकाशन,
दरियागंज नई दिल्ली, संस्करण 1992, पृष्ठ पृष्ठ 159
10-सं॰ प्रो॰ नजी़र मु॰, नजी़र ग्रन्थावली, हिंदी संस्थान उत्तर प्रदेश, लखनऊ, संस्करण
1992, पृष्ठ 214
11-डाॅ.अब्दुल अलीम, नज़ीर अकबराबादी और उनकी विचारधारा, वााणी प्रकाशन,
दरियागंज नई दिल्ली, संस्करण 1992, पृष्ठ 163
12-सं॰ प्रो॰ नजी़र मु॰, नजी़र ग्रन्थावली, हिंदी संस्थान उत्तर प्रदेश, लखनऊ, संस्करण
1992, पृष्ठ 231
13-डाॅ.अबुल्लेस सिद्दीकी, नज़ीर अकबराबादी: उनकी शायरी और एहद, उर्दू एकेडमी
कराची, संस्करण 1959 पृष्ठ 61
14-सं॰ प्रो॰ नजी़र मु॰, नजी़र ग्रन्थावली, हिंदी संस्थान उत्तर प्रदेश, लखनऊ, संस्करण
1992, पृष्ठ 180

सलीम मिया द्वारा लिखित

सलीम मिया बायोग्राफी !

नाम : सलीम मिया
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

तितलियाँ बेचैन हैं: कहानी (सुभाष पंत)

तितलियाँ बेचैन हैं: कहानी (सुभाष पंत)

सुभाष पंत 68 2019-05-01

वह स्वर्ण युग था जिसमें शेर और बकरी एक घाट पानी पीते थे। वर्तमान कितना घिनौना है, यह बताने की मैं कोई आवश्यकता अनुभव नहीं कर रहा। उसे तो तुम देख ही रही हो। मेरा बस चले तो मैं वर्तमान को अतीत में बदल दूँ। दरअसल मेरी मुख्य चिंता ही यह है।’ कछुए ने आध्यात्मिक दर्प के साथ कहा। तितलियों ने अनेक बार इसी किस्म के सनातन वक्तव्य सुने थे, जिनका नाभिनाल अतीत में गड़ा होता है। अतीत के प्रति पूरा सम्मानभाव रखने के बावजूद वे इस तरह के वक्तव्यों से ऊब चुकीं थीं। एक प्रगल्भ तितली ने तुरन्त अपना विरोध प्रकट किया, ’इसका मतलब तो यही हुआ सर कि यह ऐसी व्यवस्था थी जहाँ शेर को शिकार करने के लिए भटकना नहीं पड़ता था। वह उसे बिना परिश्रम के उसी घाट पर उपलब्ध हो जाता था, जहाँ वह पानी पीता था। यह तो सर शोषक की आदर्श स्थिति हुई, शोषित की नहीं।’

स्त्री अधिकारों का 'मौन अनुबंध' कविता समीक्षा (गणेश गनी)

स्त्री अधिकारों का 'मौन अनुबंध' कविता समीक्षा (गणेश गनी)

गणेश गनी 99 2019-04-29

हिंदी साहित्य में ऐसे धूर्त साहित्यकार भतेरे हैं जो स्त्री विमर्श की आंच पर अपनी साहित्यिक रोटियां तो सेकते हैं, जो महिलाओं पर केंद्रित कविताएँ तो लिखते हैं, जो महिला विशेषांक भी निकालते हैं और सम्मेलनों में जाकर भाषण झाड़ते हैं कि उनसे बड़ा औरतों का संरक्षक कोई और है ही नहीं, परन्तु असलियत कुछ और ही होती है और वो यह कि उनके विचार इन सबसे एकदम उलट होते हैं। इनकी मानसिकता तब और भी उजागर हो जाती है जब ये दारूबाज पार्टियों में अपनी घिनौनी सोच को जगज़ाहिर करते हैं। दरअसल हमारे समाज में अब भी स्त्रियों को वो सम्मान और हक अभी नहीं मिले हैं, जिनकी वे वास्तव में हकदार हैं। आज भी अधिकतर चालाक पुरुष उसे अपनी सम्पति से अधिक कुछ नहीं समझते। कवयित्री भावना मिश्रा की अधिकतर कविताएँ ऐसी मानसिकता पर गज़ब की चोट करती हैं। भावना मिश्रा ने पुरुष मानसिकता की कलई शानदार तरीके से खोली है-

'मित्रो मरजानी' से अनंत यात्रा पर 'कृष्णा सोबती', स्मरण शेष

'मित्रो मरजानी' से अनंत यात्रा पर 'कृष्णा सोबती', स्मरण शेष

हनीफ मदार 228 2019-01-25

भारतीय साहित्य के परिदृश्य पर हिन्दी की विश्वसनीय उपस्थिति के साथ कृष्णा सोबती अपनी संयमित अभिव्यक्ति और रचनात्मकता के लिए जानी जाती रहीं उनकी लंबी कहानी मित्रो मरजानीके लिए  कृष्णा सोबती पर हिंदी पाठकों का फ़िदा हो उठना इसलिए नहीं था कि वे साहित्य और देह के वर्जित प्रदेश की यात्रा की ओर निकल पड़ी थीं बल्कि उनकी महिलाएं ऐसी थीं जो कस्बों और शहरों में दिख तो रही थीं, लेकिन जिनका नाम लेने से लोग डरते थे.यह मजबूत और प्यार करने वाली महिलाएं थीं जिनसे आज़ादी के बाद के भारत में एक खास किस्म की नेहरूवियन नैतिकता से घिरे पढ़े-लिखे लोगों को डर लगता था. कृष्णा सोबती का कथा साहित्य उन्हें इस भय से मुक्त कर रहा था. वास्तव में कथाकार अपने विषय और उससे बर्ताव में केवल अपने आपको मुक्त करता है, बल्कि वह पाठकों की मुक्ति का भी कारण बनता है. उन्हें पढ़कर हिंदी का वह पाठक जिसने किसी हिंदी विभाग में पढ़ाई नहीं की थी लेकिन अपने चारों तरफ हो रहे बदलावों को समझना चाहता था.

 

इसके अलावा निकष’, ‘डार से बिछुड़ी’, मित्रों मरजानी’, ‘यारों के यार’, ‘तिन-पहाड़’, ‘बादलों के घेरे’, ‘सूरज मुखी अँधेरे के’, ‘ज़िन्दगीनामा’, ‘ लड़की’, ‘दिलो-दानिश’, ‘हम हशमतऔर समय सरगमसे गुज़री आपकी लम्बी साहित्यिक ज़िंदगी में अपनी हर नई रचना में आपने ख़ुद अपनी क्षमताओं का अतिक्रमण किया जो सामाजिक और नैतिक बहसों की अनुगूँज के रूप में बौद्धिक उत्तेजना, आलोचनात्मक विमर्श, के साथ पाठकों में बराबर बनी रही

 

साहित्य अकादमी पुरस्कार और उसकी महत्तर सदस्यता के अतिरिक्त, अनेक राष्ट्रीय पुरस्कारों और अलंकरणों से शोभित कृष्णा सोबती साहित्य की समग्रता में ख़ुद के असाधारण व्यक्तित्व को भी साधारणता की मर्यादा में एक छोटी-सी कलम का पर्याय ही मानती रहीं बावज़ूद आपने हिन्दी की कथा-भाषा को एक विलक्षण ताज़गी दी आज अपने बीच से उनका चले जाना भले ही एक जीवन चक्र का पूरा होना हो किंतु यह सम्पूर्ण हिंदी साहित्य जगत के लिए एक ऐसी अपूर्णीय रिक्तता की तरह है  जिसे भर पाना नामुमकिन है

 

उन्हीं की एक कहानी के साथ हमरंगपरिवार कृष्णा सोबती को नमन करता है

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.