उनको अपने हुश्न पे है नाज़… ग़ज़ल (उपेन्द्र परवाज़)

कविता ग़ज़ल

उपेन्द्र परवाज़ 69 2018-11-18

उपेन्द्र परवाज़ यूं तो भौतिकी में शोधरत छात्र हैं लेकिन शौकिया तौर पर आप ग़ज़ल लिखते हैं आपकी दो ग़ज़लें यहाँ आपके सम्मुख हैं | विधा के अग्रज साथी उपेन्द्र की इन रचनाओं पर अपनी कीमती राय देंगे ऐसी अपेक्षा है | संपादक

1-

उनको अपने हुश्न पे है नाज़ तो फिर क्या कीजे ?
मेरी आँखों से छुपते नहीं राज़ तो फिर क्या कीजे ?
डूबा के खुद ही कर रहे साहिल पे इंतज़ार अब वो
निराले उनके ये अंदाज़, तो फिर क्या कीजे ?
उन्ही का शहर वही मुद्दई वही मुन्सिफ
फैसले में हम ही निकले दगाबाज़, तो फिर क्या कीजे ?
उन्होंने देखा ही नहीं आईने से आगे कुछ भी
ख़ुदपरस्ती में डूबे हुश्न के जहाज, तो फिर क्या कीजे ?
मुझे यकीन है वो खुद ही लौट आयेंगे
पर मै वैसा न रहूँ जैसा हूँ आज, तो फिर क्या कीजे ?
मै रहबर हूँ, रहजन और मंज़िल खुद भी
गुम होना ही तुझको अब “परवाज़”, तो फिर क्या कीजे ?

2 –

ज़मीन से ताल्लुक ख़त्म करके, कभी बेखबर नहीं होते
परिंदे भी बताते है, कि आसमां में घर नहीं होते |
भटकता हूँ यादो के दस्त में नंगे पाँव मै हर पल
की यादो के सफ़र में मील के पत्थर नहीं होते |
ये दिल के रोग है जिनको लगे है, अब वही जाने
की इसमे ज़हर निकालने के भी नश्तर नहीं होते |
तुम जीत कर भी खो गये गुमनाम दुनिया में
हमारी हार के चर्चे, अभी किस घर नहीं होते ?
संभल कर अब चलो “परवाज़” तुम भी रहबरों के संग
ज़माने कातिलो के हाथ अब खंजर नहीं होते |

उपेन्द्र परवाज़ द्वारा लिखित

उपेन्द्र परवाज़ बायोग्राफी !

नाम : उपेन्द्र परवाज़
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.