उफ़ परसाई हाय परसाई: संस्मरण (यूनुस खान)

युनुश खान 24 2018-11-18

(“हरिशंकर परसाई: – चर्चा ज़ारी है …….” के आठवें दिन ……. यूनुस खान का आलेख ‘) हिम्‍मत नहीं थी कि आकाशवाणी की कैजुएली वाले उन दिनों में अपनी बेहद प्रिय ‘स्‍ट्रीट-कैट’ साइकिल को परसाई जी के घर की ओर मोड़ दिया जाए । लेकिन ये शौर्य हमने दिखा ही दिया एक दिन । और नेपियर टाउन में परसाई जी के घर पहुंच गए । परसाई जी बिस्‍तर पर थे । हमें पता था कि एक दुर्घटना के बाद उनकी यही हालत है । उनसे बातें हुईं । उन्‍हें पता नहीं किस धुन में हमने अपनी ‘कविताएं’ तक सुना डालीं । ये बात याद करके आज भी गर्दन के पीछे वाले हिस्‍से में झुरझुरी दौड़ जाती है । उन बचकानी कविताओं पर परसाई ने अपनी राय दी । रास्‍ता दिखाया । फिर तीन चार बार की मुलाकात रही परसाई जी के साथ । एक बार तो गणतंत्र दिवस पर आकाशवाणी जबलपुर के लिए विशेष कार्यक्रम तैयार करते हुए हम उन्‍हें रिकॉर्ड करने भी गए । वो रिकॉर्डिंग पता नहीं जबलपुर केंद्र में अब है या नहीं । फिर विविध भारती वाले दिन आ गये जीवन में । मुझे याद है कि बंबई से ऑडीशन देकर लौटा ही था कि उसी दिन जबलपुर आकाशवाणी के केंद्र निदेशक क़मर अहमद का फोन आया । परसाई जी नहीं रहे, उनकी ‘अंतिम-यात्रा’ को कवर करना है । फौरन आओ । जाने क्‍या धुन थी । आनन-फानन पहुंचे । और हमने परसाई को पंच-तत्‍त्व में विलीन होते देखा ।

उफ़ परसाई हाय परसाई 

यूनुस खान

यूनुस खान
जन्म – जबलपुर, मध्यप्रदेश
प्रीमियम रेडियो चैनल विविध भारती में रेडिओ जौकी
फिल्‍मों पर लंबे समय से लेखन।
दैनिक भास्‍कर में फिल्‍म म्‍यूजिक पर कॉलम- ‘स्‍वर पंचमी’
संगीत पर तकरीबन नौ सालों से ब्‍लॉग–‘रेडियोवाणी’।
कहानियों के ऑडियो का ब्‍लॉग- कॉफी हाउस। आमिर ख़ान के साथ ‘सत्‍यमेव जयते’ का रेडियो शो।फिल्‍म संसार की कई नामी शख्सियत को इंटरव्‍यू किया है।
yunus.radiojockey@gmail.com
फ़ोन- 09892186767

जबलपुर से हिमांशु दादा ( हिमांशु रॉय ) का मेल आया है । उन्‍होंने सूचित किया है कि बाईस अगस्‍त के दिन जबलपुर इप्‍टा ‘विवेचना’ द्वारा परसाई जी का जन्‍मदिन मनाया जा रहा है । ये ऐसे मौक़े होते हैं जब जबलपुर विकलता से याद आता है । जब मैं जबलपुर में होना चाहता हूं । दरअसल परसाई और विवेचना जबलपुर के दो ऐसे सूत्र हैं जिनसे जुड़ाव की मीठी यादें अचानक ही ताज़ा हो जाती हैं ।

परसाई को सबसे पहले मध्‍यप्रदेश में स्‍कूल के दिनों में बालभारती या सहायक वाचन में पढ़ा था । वो रचना थी ‘सदाचार का ताबीज़’ । और दूसरी रचना थी ‘टॉर्च बेचने वाला’ । तब इतनी समझदारी नहीं थी कि परसाई की रचनाओं के मर्म को समझ पाते । लेकिन इसके बाद तकरीबन नौंवी दसवीं कक्षा वाले सागर शहर के दिनों की बात है । अचानक हमें ‘परसाई से प्रेम’ हो गया । स्‍कूल के उन दिनों में हमारी एक शानदार मंडली हुआ करती थी । आशीष, पी. राजेश्‍वर राव, संजीव, नवीन और कुछ हद तक श्रवण और भरत वग़ैरह इस मंडली के सदस्‍य थे । उन दिनों हमने ‘राष्‍ट्रीय सेवा योजना’ यानी NSS ज्‍वाइन कर ली थी । और दिसंबर के महीने में किसी गांव में लगने वाले कैंप में जाते थे । सर्दी के बेहद ठिठुरते इन दिनों में हम सबने सामूहिक रूप से ‘ठिठुरता हुआ गणतंत्र’ पढ़ी । स्‍कूल की लाइब्रेरी से निकाली गई ये पुस्‍तक कैसे पढ़ी जाती थी आपको बताते हैं । कोई एक व्‍यक्ति ज़ोर-ज़ोर से पढ़ता था और बाक़ी सारी सुनते थे । सराहना करते थे । तब हमने व्‍यंग्‍य को समझा । तब से हमारी ये राय बनी और आज तक कायम है कि परसाई जैसी राजनीतिक सामाजिक समझ और व्‍यंग्‍य को करूणा की हद तक ले जानी की काबलियत किसी भी व्‍यंग्‍यकार में नहीं है । उन दिनों हमने शरद जोशी को भी पढ़ा । पर उन पर ज्‍यादा टिक नहीं सके ।
सागर में वेराइटी बुक स्‍टॉल हुआ करता था । जो शायद अब भी है । और यहां बहुधा राजकमल पेपरबैक्‍स की पुस्‍तकों और अन्‍य प्रकाशनों में हमारा सारा जेबखर्च खप जाता था । किताबों की ख़ब्‍त वाले दिन थे । परसाई की बेहद छोटे आकार की पुस्‍तक ‘काग-भगोड़ा’ तब इतने बार ख़रीदी की पूछिए मत । हर बार कोई मित्र उठाकर ले गया, लूटकर ले गया । बाद में कोई उधारिया ऐसे ले गया कि आज भी हमारे पास उस पुस्‍तक की प्रति शायद नहीं है । ‘काग-भगोड़ा’ के बाद तो परसाई को पढ़ने की एकदम से लौ ही लग गयी । फिर जबलपुर वाले दिन आए । तब तक परसाई की रचनाओं के ज़रिए जबलपुर के इत्‍ता जान-समझ गए थे कि वहां पहुंचने के बाद लगा–अच्‍छा तो ये है वो नाला जिसका जिक्र परसाई ने उस रचना में किया था । ओह तो ये वो स्‍कूल है जहां परसाई पढ़ाते थे । अच्‍छा अच्‍छा तो ये है वो अड्डा जहां परसाई बैठा करते थे । शहर की पहचान हम परसाई से करते थे ।

हिम्‍मत नहीं थी कि आकाशवाणी की कैजुएली वाले उन दिनों में अपनी बेहद प्रिय ‘स्‍ट्रीट-कैट’ साइकिल को परसाई जी के घर की ओर मोड़ दिया जाए । लेकिन ये शौर्य हमने दिखा ही दिया एक दिन । और नेपियर टाउन में परसाई जी के घर पहुंच गए । परसाई जी बिस्‍तर पर थे । हमें पता था कि एक दुर्घटना के बाद उनकी यही हालत है । उनसे बातें हुईं । उन्‍हें पता नहीं किस धुन में हमने अपनी ‘कविताएं’ तक सुना डालीं । ये बात याद करके आज भी गर्दन के पीछे वाले हिस्‍से में झुरझुरी दौड़ जाती है । उन बचकानी कविताओं पर परसाई ने अपनी राय दी । रास्‍ता दिखाया । फिर तीन चार बार की मुलाकात रही परसाई जी के साथ । एक बार तो गणतंत्र दिवस पर आकाशवाणी जबलपुर के लिए विशेष कार्यक्रम तैयार करते हुए हम उन्‍हें रिकॉर्ड करने भी गए । वो रिकॉर्डिंग पता नहीं जबलपुर केंद्र में अब है या नहीं । फिर विविध भारती वाले दिन आ गये जीवन में । मुझे याद है कि बंबई से ऑडीशन देकर लौटा ही था कि उसी दिन जबलपुर आकाशवाणी के केंद्र निदेशक क़मर अहमद का फोन आया । परसाई जी नहीं रहे, उनकी ‘अंतिम-यात्रा’ को कवर करना है । फौरन आओ । जाने क्‍या धुन थी । आनन-फानन पहुंचे । और हमने परसाई को पंच-तत्‍त्व में विलीन होते देखा ।

परसाई से हमारा वास्‍ता देशबंधु के उस कॉलम ‘पूछिये परसाई से’ भी था । जिसमें वो पाठकों के सवालों के जवाब देते थे । बाद में एक लघुपत्रिका ने ( जिसका नाम याद नहीं आ रहा है ) इस कॉलम को संग्रहीत किया अपने एक विशेष अंक में । वो भी कोई ‘उधारिया’ ले गया । और हम फड़फड़ाते रहते हैं उस अंक की याद में । किसी भाई-बंधु को उस पत्रिका का अता-पता हो तो कृपया उसकी छायाप्रति ही उपलब्‍ध करा दें । हम आपके आजीवन आभारी रहेंगे ।

जबलपुर में विवेचना अरूण पांडे के निर्देशन में ‘परसाई-कोलाज’ करती है । बंबई में कुछ बरस पहले इसके छप्‍पर फाड़ शो हुए थे । बंबईया थियेटर ग्रुप भी दंग रह गए थे इन्‍हें देखकर । अगर आपने नहीं देखे तो अब देखिएगा । एक और पुस्‍तक की याद आ रही है अरूण पांडे ने परसाई की रचनाओं से ‘कोटेशन्‍स’ निकालकर उन्‍हें एक जगह संकलित किया था । वो पुस्‍तक भी किसी उधारिये की भेंट चढ़ गयी । अदभुत था वो संकलन ।

परसाई ने हमारे जीवन पर गहरा असर डाला । परसाई ने हमें ‘सेन्‍स ऑफ ह्यूमर’ ही नहीं दिया । उन्‍होंने हमें सिखाया कि समाज की विडंबनाओं और वितृष्‍णाओं को देखकर बाल नोंचने या कपड़े फाड़ने की बजाए उन पर चिकोटी काटी जा सकती है । परसाई चुटकुलेबाज़ व्‍यंग्‍य परंपरा से नहीं आते, वो अपने सामाजिक और राजनीतिक सरोकारों के तामझाम के साथ आते हैं । वो हमें सोचने को विवश करते हैं । परसाई को नमन करते हमारा माथा नहीं घिसता । परसाई का जिक्र करते हमारे शब्‍द कम नहीं पड़ते । परसाई का नाम लेते हमारी जीभ नहीं थकती । एक ही अफ़सोस है.. हम दुनिया में थोड़े दिन और पहले आते तो परसाई का साथ और ज्‍यादा मिलता ।
परसाई की आत्‍मकथात्‍मक रचना ‘गर्दिश के दिन’ हमें बेहद प्रिय है । परसाई के एक अनन्‍य प्रेमी है ‘फुरसतिया’ अनूप शुक्‍ल । उन्‍हीं के ब्‍लॉग पर जबरिया इसे ठेला गया था साल 2006 में । तो यहां चटका लगाईये और पढिये ‘गर्दिश के दिन’ । नहीं पढ़ा तो इस पुस्‍तक को खोजकर पढ़ें । परसाई ने अपने समकालीनों और मित्रों पर क्‍या ख़ूब लिखा है ।

युनुश खान द्वारा लिखित

युनुश खान बायोग्राफी !

नाम : युनुश खान
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

परवाज़ : कहानी (अनीता चौधरी)

परवाज़ : कहानी (अनीता चौधरी)

अनीता 12 2018-12-10

जन्मदिन पर विशेष

कहानी में सौन्दर्य या कलात्मक प्रतिबिम्बों की ही खोज को बेहतर कहानी का मानक मान कर किसी कहानी की प्रासंगिकता तय करना भी वक्ती तौर पर साहित्य में परम्परावादी होने जैसा ही है | तीव्र से तीव्रतम होते संचार और सोसल माद्ध्यम के समय में वैचारिक प्रवाह और भूचाल से गुजरती कहानी भी खुद को बदल रही वह भी यदि गहरे प्रतीक और कला प्रतिबिम्बों के गोल-मोल भंवर में पाठक को न उलझाकर सीधे संवाद कर रही है वह सामाजिक ताने-बाने में पल-प्रतिपल घटित होती उन सूक्ष्म घटनाओं को सीधे उठाकर इंसानी वर्गीकरण और संवेदनाओं को तलाश रही है बल्कि खुद के वजूद के लिए संघर्ष के साथ उठ खड़ी हो रही है | कहानी का यह बदलता स्वरूप साहित्यिक मानदंड को भले ही असहज करे किन्तु वक़्त की दरकार तो यही है |

“हमरंग” की सह-संपादक 'अनीता चौधरी' की ऐसी ही एक कहानी......उनके जन्मदिवस पर बधाई के साथ | - संपादक

'दक्खिन टोला' 'पत्थगलढ़ी' का पाठ: (कमलेश)

'दक्खिन टोला' 'पत्थगलढ़ी' का पाठ: (कमलेश)

विजय शर्मा 26 2018-12-04

‘सृजन संवाद’ की नवंबर मास की गोष्ठी में रांची से आये 'दक्खिन टोला' जैसी चर्चित कहानी संग्रह के कथाकार कमलेश ने अपनी कहानी 'पत्थलगड़ी' का पाठ किया। कमलेश को सुनने स्थानीय लेखक, साहित्यकार व साहित्यप्रेमी एकत्र हुए। 'पत्थलगड़ी' जल, जंगल और जमीन बचाने की कहानी है। यह आदिवासियों के अंदर के उनके प्रकृति प्रेम और उसके प्रति समर्पण को दर्शाती कहानी है। इस कहानी में इस बात का जिक्र है कि किस प्रकार एक आदिवासी परिवार की तीन पीढ़ी जंगल और पहाड़ को बचाने के लिए अपनी जिंदगी कुर्बान कर देती है। आज भी यह आम धारणा बनी हुई है कि जल, जंगल, जमीन की बात करने वाले को पुलिस और सरकार माओवादी मानती है। पिछले दिनों खूंटी में हुए पत्थलगड़ी प्रकरण को संदर्भ कर लिखी गयी यह अदभुत कहानी है।

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.