ऐ शाम : कविता (आकाश चौधरी)

बाल मंच कविता

आकाश चौधरी 178 2018-12-12


ऐ शाम,

तेरी गली में हमारी भी दस्तख हुई,

तेरी मस्ती परवान चढ़ रही थी,

मचल-मचल कर झूम रही थी,

इठला रही थी,कर रही थी अट्टाहास,

भूल कर अपने दुःख,दर्द,हो कर नशे में चूर,

आ गयी थी मस्ती के आगोश में,

लेकिन किसी को ये गवारा नहीं,

वो आ रहा है,

तेरे अस्तित्व को तार-तार करने,

आ रहा है तूझे दहलाने,

आ रहा है तुझे छिन्न-भिन्न करने,

आ रहा है तेरी कश्ती को डुबोने,

जा बचाले अपना संसार,

ऐ शाम,

तेरी ज़िन्दगी बस इतनी थी,

खत्म हुआ तेरा-मेरा सफ़र,

अब न वो तेरी चादर, नाहीं तेरा अहसास,

न वो रूह को सुकून देने वाले वादा,

न वो मनमोहक सफ़र,

न वो उर्जा और नाहीं वो संघर्ष,

सिर्फ़ है,

 बदन में तपिश,

आँखों में धदकती ज्वाला,

रक्त में रोष,

दिल में आक्रोश और सिर्फ़ एक ही तमन्ना,

काश !

                                          -आकाश चौधरी

आकाश चौधरी द्वारा लिखित

आकाश चौधरी बायोग्राफी !

नाम : आकाश चौधरी
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

छात्र 

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.