तितलियाँ बेचैन हैं: कहानी (सुभाष पंत)

कथा-कहानी कहानी

सुभाष पंत 435 2019-05-01

वह स्वर्ण युग था जिसमें शेर और बकरी एक घाट पानी पीते थे। वर्तमान कितना घिनौना है, यह बताने की मैं कोई आवश्यकता अनुभव नहीं कर रहा। उसे तो तुम देख ही रही हो। मेरा बस चले तो मैं वर्तमान को अतीत में बदल दूँ। दरअसल मेरी मुख्य चिंता ही यह है।’ कछुए ने आध्यात्मिक दर्प के साथ कहा। तितलियों ने अनेक बार इसी किस्म के सनातन वक्तव्य सुने थे, जिनका नाभिनाल अतीत में गड़ा होता है। अतीत के प्रति पूरा सम्मानभाव रखने के बावजूद वे इस तरह के वक्तव्यों से ऊब चुकीं थीं। एक प्रगल्भ तितली ने तुरन्त अपना विरोध प्रकट किया, ’इसका मतलब तो यही हुआ सर कि यह ऐसी व्यवस्था थी जहाँ शेर को शिकार करने के लिए भटकना नहीं पड़ता था। वह उसे बिना परिश्रम के उसी घाट पर उपलब्ध हो जाता था, जहाँ वह पानी पीता था। यह तो सर शोषक की आदर्श स्थिति हुई, शोषित की नहीं।’

तितलियाँ बेचैन हैं

डॉक्टर भारती ने मुझे कछुए और तितलियों की एक अफ्रीकी लोककथा सुनाई। मैं वही लोककथा आपको भी सुना रहा हूँ । इस लोक कथा में मैंने अपनी ओर से भी कुछ जोड़ दिया है। शायद कुछ ज्यादा ही। दरअसल,किस्सागो कहानी सुनाते समय अपनी ओर से उसमें कुछ जोड़ या घटा देता है। यह कहानी की अनोखी खूबी है कि उसमें कुछ जोड़कर उसे अपने समय की कहानी बना दिया जाता है। शायद किसी कबीले में पहली कहानी का जन्म हुआ होगा। वह कहानी अलग-अलग कबीलोंभाषा,भूगोल और संस्कृतियों में अपना रूप बदलकर एक से अनेक होती गई। उसका मूल स्वर प्रेम और एकाधिकार से मुक्ति की कामना है। अन्य मानवीय समस्यायें और संवेग उसकी पोशाके हैंजिन्हें वह समय समय पर पहनती और ओढ़़ती रहती है।

तो किस्सा कोताह यूँ है--

  एक कछुवा धूप में लेटा हुआ था और तितलियाँ फूलों पर मंड़राते हुए मधु पी रही थीं और नाजुक उड़ानों से परागकणों को एक से दूसरे फूल में बिखेरते हुए फूलों की संस्कृति को भविष्य के लिए सुरक्षित और सम्वर्धित कर रही थीं। कछुए को धूप में उदास लेटे देखकर एक तितली ने गहरी करुणा से अपनी सहेली से कहा, ’आह! बेचारा कैसे धूप में उदास लेटा है और हम फूलों की सुगंध और रंगों से खेलते हुए मधु का आस्वाद ले रही।

   ’हाँ मेरी माँ ने भी इसे ऐसे ही धूप में लेटे देखा है। माँ की माँ ने भी और उसकी माँ ने भी और इससे पिछली माँओं ने भी। सुना यह सिलसिला पाँच हजार साल पीछे तक जाता है। यह उस समय से बाहर नहीं निकलना चाहता।दूसरी तितली ने कहा।   

   ’हे भगवान पाँच हजार साल....जबकि इस बीच सम्यताएँ कितने सोपान तय कर चुकी और विज्ञान और प्रोद्योगिकी ने दुनिया को पूरी तरह बदल दिया। प्रोद्योगिकी और सूचना के इस विस्फोट युग में भी अतीत के अज्ञानकाल में रहना कितना हास्यास्पद और कारुणिक है। मुझे इस पर बहुत दया आ रही। हमें मिलजुल कर इसकी मदद करनी चाहिए।

 सभी तितलियां इस बात पर सहमत हो गई कि पीछे छूट गए को कतार में शमिल करना उनका दायित्व है। वे अपने नाजुक पंखों से हवा में रंग बिखेरती हुए उसके पास आई और एक सियानी ने नमस्कार करते हुए उससे पूछा, ’सर जी आप इतने उदास क्यों हैंआपको धूप में उदास लेटे देखकर हमारा मन बहुत काऊ-बाऊ हो रहा है । लग रहा जैसे सारे माहौल ने एक उदास चादर लपेट ली हो...

   ’उदास?’ कछुए ने अपने खोल में से सिर बाहर निकालकर खिल्ली सी उडाते हुए कहा। फिर सहज होकर बताया कि वह उदास नहींआध्यात्म में है और अपने भीतर दिव्य ऊर्जा संचित कर रहा।

   ’ग़लती हो गई सर! लेकिन हमने सुना आप एक लम्बे समय तक सुषुप्तावस्था में रहते हैं और इस दौरान जीवन बहुत आगे चला जाता है। जीवन कभी किसी के लिए नहीं ठहरता। सुषुप्तावस्था के लिए तो बिल्कुल भी नहीं। वह निरन्तर आगे बढ़ता रहता है। और जब आप सुषुप्ता अवस्था से बाहर निकलते हैं तब तक बहुत पीछे छूट जाते हैं। और हमने सुनाआप की अहमन्यता यह कि आप उस छूटे समय को ही परम सत्य मानते हैं और चाहते हैं कि दुनिया उसे ही आदर्श माने और उसका अनुसरण करेजबकि अतीत की चिंताएँ और मान्यताएँ अतीत में ही छोड़ दी जानी चाहिएँ।

   ’तुमने गलत नहीं सुना प्यारी तितलियों। मैं उसी समय का पैरोकार हूँ। वह स्वर्ण युग था जिसमें शेर और बकरी एक घाट पानी पीते थे। वर्तमान कितना घिनौना हैयह बताने की मैं कोई आवश्यकता अनुभव नहीं कर रहा। उसे तो तुम देख ही रही हो। मेरा बस चले तो मैं वर्तमान को अतीत में बदल दूँ। दरअसल मेरी मुख्य चिंता ही यह है।कछुए ने आध्यात्मिक दर्प के साथ कहा।  

  तितलियों ने अनेक बार इसी किस्म के सनातन वक्तव्य सुने थे,जिनका नाभिनाल अतीत में गड़ा होता है। अतीत के प्रति पूरा सम्मानभाव रखने के बावजूद वे इस तरह के वक्तव्यों से ऊब चुकीं थीं। एक प्रगल्भ तितली ने तुरन्त अपना विरोध प्रकट किया, ’इसका मतलब तो यही हुआ सर कि यह ऐसी व्यवस्था थी जहाँ शेर को शिकार करने के लिए भटकना नहीं पड़ता था। वह उसे बिना परिश्रम के उसी घाट पर उपलब्ध हो जाता था,जहाँ वह पानी पीता था। यह तो सर शोषक की आदर्श स्थिति हुई,शोषित की नहीं।

   ’बस यही दिक्कत है,’ कछुए ने नाराजगी से कहा, ’यह पीढ़ी सवाल बहुत करने लगी है ।

   ’माफ करे सर। हमें ये शंका सिर्फ इसलिए हुई कि शेर घास-वास तो खाता नहीं होगा। उसका भोजन तो मांस ही रहा होगास्वर्णकाल में भीऔर उसके लिए वह शिकार भी करता ही होगा।’ 

   कछुए ने अपनी गरदन कोजो उसके शरीर की तुलना में बेहद कमज़ोर थी लेकिन जिसने उसके मस्तिष्क को थाम रखा था,विद्वता से हवा में हिलाते हुए कहा, ’तुम आस्था की जगह तर्क पर विश्वास कर रहीं हो ।

   ’तर्क विज्ञान की आत्मा है सर जीजिसके द्वारा उसने प्रकृति के रहस्यों और उसकी स़च्चाइयों को जाना।

    ’तर्क!’ कछुवे का चेहरा विद्रूप में कडुवा हो गया, ’मेरी प्यारी तितलियों आस्था हर शंका का समाधान है और तर्क शंकाओं का उद्गम है। आस्था के बाद कोई प्रश्न नहीं। तर्क के बाद फिर तर्क है। वह कभी हमें महान सच्चाई तक नहीं पहुँचने देता। वह छल है। यहाँ तक कि इससे तो उस परम शक्ति को भी खारिज किया जा सकता हैजिसने इस सृष्टि का निर्माण किया और जिसकी इच्छा से इसकी सम्पूर्ण गतिविधियाँ संचालित हो रहीं।

   ’हिरण्यगभ्र्यः समवत्र्तताग्रे भूतस्यजातःपरितेक आसीत्

  स दाधर पृथ्वीं द्यामुतेमांकस्मै देवाय हविष विघेम।

   ’लेकिन कछुएजी सर,’ खगोल विद्या में दिलचस्पी रखनेवाली एक तितली ने कहा, ’जैसा कि खगोल वैज्ञानिक बताते हैंहमारी सृष्टि का निर्माण किसी दैविक शक्ति ने नहीं किया। यह महाविस्फोट से हुआ।

   ’यही संकट है,’ कछुए ने कहा, ’धर्म और आध्यात्म के मामले में तुम तर्क करती हो और विज्ञान को बिना तर्क स्वीकार कर लेती हो। चलिए मैं तुम्हारी बात माना लेता हूँ कि पृथ्वी का जन्म महाविस्फोट से हुआ लेकिन क्या तुम जीवन केंद्रित सिद्धात के बारे में कुछ जानती हो?’ 

   ’नहीं। हमें इस सिद्वान्त की कोई जानकारी नहीं।

  कछुए ने मुस्कराते हुए कहा, ’यह तो आधुनिक वैज्ञानिक भी मानते हैं कि अगर महाविस्फोट एक सेकेंड के हजारवें हिस्से पहले या बाद में हुआ होता तो यह सृष्टि वैसी नहीं होती जैसी अब है।

   ’हाँऐसा सम्भव है। महाविस्फोट के साथ ही समय आरम्भ हुआ। इससे पहले समय शून्य था।

   ’विस्फोट के समय के बारे में विज्ञान का क्या कहना है?’

   ’यह सिर्फ एक संयोग है।

    ’कारण के स्थान पर संयोंग का सहारा लेना ही आज के विज्ञान की सीमा है और इसी सीमा से आस्था की तर्कातीत अजेय यात्रा आरम्भ होती है। विज्ञान तो वैदिक काल में भी आज की तरह उन्नत था लेकिन उसमें तर्क नहीं था,जो आधुनिक विज्ञान की सबसे बड़ी सीमा है। मेरी प्यारी तितलियोंदिव्य शक्ति की इच्छा से ही विस्फोट पूर्व निश्चित समय पर हुआजिसमें धरती और उसके जीवधारियों के विकास की योजना तय थी। यही जीवन केन्द्रित सिद्वान्त है। एन्थ्रोपिक प्रिसिंपल आॅव लाइफ।

   ’अगर इसका कोई प्रमाण नहीं है तो इसे बस भावनात्मक ही माना जाना चहिए। हमारा विचार है कि आपको भी इससे असहमत नहीं होना चाहिए।तितलियों ने विनम्र प्रतिरोध किया।  

   ’मैं तुम्हारी बात से सहमत हो सकता हूँ,लेकिन आधुनिक वैज्ञानिक की अनेक मान्यताएँ है,जहाँ बहुत स्पष्ट दरारें हैं । उन पर तो बात की ही जानी चाहिए। उदाहरण के लिए पौराणिक आधार पर नहीविज्ञान के आधार पर ही पृथ्वी के अंतरिक्ष में टिके रहने के मामले पर ही विचार करलें। यह वैज्ञानिक सत्य है कि पृथ्वी अपनी धुरी पर साढे छियासठ अंश झुकी हुई हैजिससे वह अन्तर ग्रहीय आकर्षण के कारण अपने वर्तमान स्थान पर टिकी हुई है। यदि ऐसा न होता तो मैं तुमसे ही पूछ रहा हूँ कि क्या होता?’

   ’तो उसे यह सीमाहीन संतुलन न मिलता जो इस अंश पर झुके होने पर मिल रहा और तब सम्भव है कि वह एक जगह न टिक कर अन्य ग्रह से टकराकर चकनाचूर हो जाती।’ खगोल-विद्या की जानकार तितली ने कहा।

   ’यही आधा अंश ईश्वर की इच्छा हैसृष्टि का निर्मातासंचालकनियामक और नियन्ता है। पृथ्वी है और जीवन है।

   ’लेकिन यह संयोग भी हो सकता है कि पृथ्वी अपनी धुरी पर ऐसे झुक गई कि उस पर आकर्षण शक्तियों का दबाव बना और वह अंतरिक्ष में टिक सकी।’  

   ’अजीब बात हैजहाँ विज्ञान के पास कोई जवाब नहीं होतावहाँ संयोग मान लिया और इससे इतर जो कुछ भी हैउस पर सभी आयामों पर विचार किए बिना विश्वास कर लिया। उदाहरण के लिए जैसे डार्विन का सरवाईवल आॅफ फिटेस्ट’ सिद्वान्त।

   ’हाँअपने इस छोटे से जीवन में हमने सर्वत्र यही देखा है कि हर प्रजाति जिन्दा रहने के लिए एक-दूसरे से लड़ रही हैंसंघर्ष कर रहीं है और जो बलवान हैवही जीतता हैवही जीवन्त है। डार्विन यही तो कहता है। इसमें संदेह की कहीं कोई गुंजाइश नहीं है सर।

   ’क्योंकि विज्ञान तुम्हारा दिमाग़ अनुकूलित कर चुका है,’कछुए ने कहा, ’तुम उससे बाहर  सोच ही नहीं सकती जिसे विज्ञान ने तय कर दियाजबकि विज्ञान खुद अधूरा है। प्रिंस क्रोपाटकिन की मान्यता डारविन के संघर्ष के सिद्वान्त के एकदम विपरीत है। उसने खोज की और पाया कि संघर्ष नहीं सहयोग ही जीवन का आधार है। अरबों-खरबों प्रजातियाँ इस अस्तित्व में एक साथ जी रही हैं और तमाम विविधताओं के बीच विकसित हो रही हैं। उनके बीच ज़रूर कोई सामंजस्य होना चाहिए।

   ’लेकिन सरजन्तुओं के आकार-प्रकार में विकास की प्रक्रिया पर एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक के व्याख्यान में मैंने सुना था कि निरन्तर विकास की प्रक्रिया में वनस्पतियाँ और जानवरों की अनेक जातियाँ विलुप्त हुई हैं और कई अन्य प्रजातियों ने अपने आप को वातावरण के अनुसार ढाला जिस कारण उनका अस्तित्त्व आज भी बचा हुआ है। एक उदाहरण के तौर पर जुरासिक काल में डाइनासोर विलुप्त हुए क्योंकि तब उनके लिए उस समय की जलवायु अनुकूल नहीं थी। जीव और जन्तुओं की विलुप्त प्रजातियों के स्थान पर नई प्रजातियाँ अस्तित्त्व में आती हैं।’ एक तितली ने प्रतिरोध किया, ’यह क्रोपाटनिक के सामंजस्य की मान्यताओं पर प्रश्न है और डारविन के संघर्ष करने की क्षमता और वातावरण के अनुसार अपने को बदलने की योग्यता के सिद्धान्त का समर्थन है।

  तितली के तर्क से कछुवे ने जोरदार ठहाका लगाया, ’लेकिन उस दिव्य शक्ति की इच्छा से जलवायु में परिवर्तन हुआ जिसमें पुराना विलुप्त हुआ और नया अस्तित्त्व में आयाजिस पर विज्ञान प्रश्नचिन्ह लगा रहा है ।

   ’आप ऐसा दावा कैसे कर रहे कि यह किसी परम शक्ति की इच्छा से हुआजबकि आपके पास भी इसका कोई प्रमाण नहीं है।?’

  कछुए ने गर्व से अपनी गर्दन हवा में लहराई, ’तुम्हे इसलिए विश्वास करना चाहिए क्योंकि मैं उस दिव्य शक्ति के दूसरे अवतार का वंशज हूँजिसने ब्रह्मांडीय संतुलन स्थापित किया। जब भगवान विष्णु के आदेश पर देवता और दैत्य मिलकर मंदराचल की मथानी और वासुकी की डोर बनाकर क्षीरसागर का मंथन करने लगे तो मंदराचल रसातल में धसने लगा तब महाप्रभु ने कच्छप अवतार लेकर उसे अपनी पीठ पर धारण किया जिस पर मंदराचल स्थापित हुआ और समुद्र मंथन संभव हो सका।

  तितलियों ने सम्मिमिलत ठहाका लगाते हुए कहा, ’सदियों से चली आ रही ये महान गप्प। सदियों इस पर विश्वास भी किया गया। लेकिन अब दुनिया की चेतना विकसित हो गई और उसने ऐसी कपोल कथाओं पर विश्वास करना छोड़ दिया। वाह क्या कमाल! कक्षप की पीठ पर अवस्थित मंदराचत पर्वत की मथानी और वासुकी नाग की रस्सी बनाकर देवता-दानवों द्वारा समुद्र का मंथन। आपसे विनम्र क्षमा याचना के साथ निवेदन हैं कि यह पौराणिक आख्यान चालाक दिमाग के द्वारा गढ़ा गया एक रूपक हैजिसमें तत्कालीन समाज में व्याप्त जातीय पक्षपात और श्रममूल्य के अन्यायपूर्ण वितरण और उसके प्रतिपक्ष को धार्मिक मिथकीय आवरण में छुपाया गया है।

   ’तुम्हारा आशय मेरी समझ में नहीं आ रहा कि यह जातीय पक्षपात और श्रममूल्य का अन्यायपूर्ण वितरण कैसे हुआ?’

   ’अगर सबाल्टर्ननजरिए से इसकी व्याख्या की जाए तो सबकुछ स्पष्ट होता चला जाएगा। पहली बात तो यह कि मंथन के लिए देवताओं को वासुकी नाग की पूँछ और राक्षसों को उसका मुँह पकड़ाया गया। यह जातीय पक्षपात था कि प्रभुवर्ग को कम और प्रजातियों को अधिक जोखिम का काम दिया गया। दूसरी बात यह कि मंथन से जो भी मूल्यवान प्राप्त हुआ उसे प्रभुवर्ग ने बांट लिया और जो भी मूल्यहीन था उसे प्रजातियों को दिया गया,जिन्होंने अधिक जोखिम का कार्य किया था। श्रम के मूल्य का उचित बटवारा न होने पर ही असहमतिप्रतिरोध और संघर्ष जन्म लेते हैं।

   ’बचोबचो मार्क्स से बचो। मार्क्स ने ईश्वरीय सत्ता और उसके विधान का विरोध किया। ईश्वरीय सत्ता और विधान स्थापित है और मार्क्सवाद सत्ता से बाहर इतिहास हो गया। अब बस वह एक फैशन की तरह साहित्य और बौद्धिक विमर्श में रह गया जबकि बौद्धिक देश के शत्रु हैंऔर साहित्य,आत्ममुग्धता का मनोरोग हैजिसे पढ़नेवाली प्रजाति लुप्त होने के कगार पर है। याद रहे सृष्टि की जितनी भी सत्ताएँ हैंवे सब परमपुरुष के अधीन हैं। जीवों में जो गति हैउसका स्रोत परमपुरुष है। विज्ञान में मृत्यु जीवन का अंत है लेकिन ईश्वरीय सत्ता में यह नए जीवन की यात्रा है। अगले जन्म में उसे अपने पिछले जन्मों के कर्मों के अनुसार प्राप्त होता है। मुझे विश्वास है कि श्रम विभाजन और उसके मूल्य के बंटवारे को लेकर तुमने जो सवाल उठाया तुम्हे उसका उत्तर मिल गया है,हालांकि ईश्वरीय न्याय पर प्रश्न नहीं उठाना चाहिए। जैसे ही जीवन, तर्क से आस्था के वैदिक काल में लौटेगाउसके सारे संताप समाप्त हो जाएँगे। यही मेरा उद्देश्य है।

   ’ठीक है भई’ एक तितली ने व्यंग्य से मुस्कुराते हुए कहा, ’आप को कौन रोक रहा है लौट जाइए अपने आदर्श संसार में।

   ’मैं तो उसी संसार में हूँ। मेरा दुःख यह है कि सभी को वहां लौटा सकने में मैं अक्षम हूँ।’ 

   ’तुम असमर्थ क्यों हो?’ तितली ने पूछा, ’हौसला हो तो क्या नहीं किया जा सकता। तुम्हारी पीठ ने तो समुद्र मंथन में ब्रह्मांडीय संतुलन स्थापित किया था। ईसाइयों की बाईबिल में भी ऐसा उल्लेख है कि यह पृथ्वी कछुए की पीठ पर टिकी हैहालांकि वह इस बात पर मौन है कि वो कछुवा जिस पर पृथ्वी टिकी है खुद कहाँ टिका हुआ है।

   ’पीठ की बात तो ठीक हैलेकिन मेरे पैर बहुत कमज़ोर हैं। धरती पर मैं बहुत धीमे चल सकता हूँ। जबकि परिवर्तन के लिए सम्पूर्ण गतियाँ ज़रूरी हैं।कछुए ने रुआँसे स्वर में कहा।

   ’सुना कि कछुए और खरगोश की दौड़ में तुम जीते थे। इसके अलावा तुम जल में भी तैर सकते हो।

   ’यह बात तो ठीक है कि मैं उस दौड़ में जीता लेकिन ऐसा मेरी दक्षता से नहींखरगोश के आलस्य की वजह से हुआ। यह ज़रूरी नहीं कि हर बार ऐसा होता रहे। और फिर आकाश?आकाश तो मेरे पास नहीं है। तुम कितनी भाग्यशाली हो। तुम्हारे पास पंख हैं और आकाश है।

   ’लेकिन हमारे पंख बहुत नाजु़क हैं। और एक छोटा-सा आसमान ही हमारा है। हम बड़ी उड़ाने नहीं भर सकतीं। वहाँ हमारे अनेक दुश्मन हैं....और मधु एकत्रित करने के लिए हमें फूलों की खोज में उड़ाने तो भरनी ही पड़ती हैं।.

  कछुए ने हताश साँस छोड़ी। काश! मेरे पंख हुए होते...

   ’काश! तुम्हारे पंख हुए होते तो...’ तितली ने हमदर्दी से कहा।

   ’तो मैं आकाश में उड़ता और तुम्हारे दुश्मनों को नष्ट करके तुम्हें निद्र्वन्द्वमुक्त और अनन्त आसमान देता। अफ़सोस मेरे पास पंख नहीं है।

   ’तुम सच्चे मन से कह रहे?’ तितलियों ने पूछा।

   ’यह सच्चे मन का वायदा है। इतना ही नहीं बल्कि अपनी वांछित सत्ता में मैं हर तितली के लिए सहस्त्रों सहस्त्र फूल उगाऊगाँ जिससे उसे मधु के लिए भटकना न पड़े। लेकिन मेरी इस सदेच्छा का अर्थ ही क्या है?जब मेरे पास पंख ही नहीं....

   ’हम अपने देवता की प्रार्थना करके तुम्हारे लिए पंख मांगेंगी,’तितलियों ने कहा, ’हमने कभी किसी का बुरा नहीं किया। हमारा मन सच्चा है। विश्वास है,देवता हमारी प्रार्थना अस्वीकार नहीं करेगा।

  कछुए ने आभार में अपना सिर झुकाया, ’वैसे भी मैं पंख अपने लिए नहींधर्म के राज की स्थापना के लिए मांग रहा हूँ जिसमें सबका सुख निहित है...ऊँ सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः।

 

 

तितलियों ने अपने देवता की प्रार्थना की। सच्चे मन से की पवित्र प्रार्थना से उनका देवता प्रसन्न हो गया। वह प्रकट हुआ और उसने तितलियों से पूछा कि उन्हें क्या वरदान चाहिए।

   ’अपने लिए कुछ नहीं मांग रही,’ तितलियों ने कहा, ’हमने कछुए के लिए प्रार्थना की। उसने हमें भयमुक्त आकाश देने और ऐसे संकट के दौर में जब धरती पादपहीन होकर सीमेंन्ट-कांक्रीट के जंगल में बदलती जा रही है,हर तितली के लिए सहस्त्रों सहस्त्र फूल उगाने का वायदा किया है। पंख न होने के कारण वह असमर्थ है और इसलिए उदास है। उसे पंख देने की कृपा करें।

  तितलियों के देवता को घोर आश्चर्य हुआ। उसने कहा, ’तुम्हारी प्रार्थना अब तक की गई सभी प्रार्थनाओं से पवित्र है। पिछली सारी प्रार्थनाएँ अपने लिए कुछ मांगने के लिए की जाती रहीं। यह प्रार्थना अपने लिए नहीं दूसरे के लिए की गई है। दूसरों के लिए की गई प्रार्थना सर्वश्रेष्ठ प्रार्थना होती है। और शायद ऐसा तुम ही कर सकती थीं कोई और नहीं। तुम्हारी यह प्रार्थना प्रार्थनाओं के इतिहास में अमर रहेगी। मैं इससे बहुत प्रसन्न हूँपर खेद है कि इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता। प्रकृति ने कछुए को पंख नहीं दिए। मैं प्रकृति के नियमों के विरूद्ध जाकर उसे पंख नहीं दे सकता।

  तितलियाँ उदास हो गईं। हमने तो बहुत आस्था और विश्वास के साथ प्रार्थना की थी...और हम कछुए से वायदा भी कर चुकी.... अब भविष्य में कोई भी तितलियों पर विश्वास नहीं करेगा... और विश्वास पूरा न करने की आत्मग्लानि से तितलियों के सिर सदा सदा के लिए झुके रहेंगे... 

  तितलियों को आहत और उदास देखकर देवता ने क्षणभर सोचते रहने के बाद कहा, ’तुम्हें इतना निराश होने की आवश्यकता नहीं है। अभी भी एक रास्ता बचा हुआ है। तुम सब अपना एक एक पंख--आधी दायाँ,आधी बायाँ उसे दे सकती हो। सारे पंख मिलकर बड़े आकार के दो डैने बन जाएंगे। तुम्हारे पंख भले ही बहुत कोमल और दुर्बल हों,लेकिन उनसे मिलकर बने डैने बहुत मज़बूत होंगे और उनकी उड़ान बहुत ताक़तवर होगी। मैं तुम्हे उन डैनों को कछुए की पीठ के दोनों ओर जोड देने का वरदान दे सकता हूँ़। तुम्हारे पंखों से बने डैनों से उसे उड़ान मिल जाएगी। लेकिन तुम्हे यह वरदान सिर्फ एक बार ही दिया जा सकता है। वरदान मांगने से पहले तुम्हे अच्छी तरह सोच लेना चाहिए।

 तितलियाँ दुविधा में फँस गईं। वे आत्मा की गहराई से यह तो चाहती थी कि कछुए को पंख प्राप्त हों लेकिन उसके लिए अपना एक एक पंख खोना उन्हें मंजूर नहीं था। अपना पंख खोकर हम डड़ान नहीं भर सकेंगी,’ उन्होंने कहा, ’हमारा जीवन सिर्फ हमारी उड़ान है। चाहे वह कितनी ही छोटी और कोमल उड़ान हो...

   ’हाँमैं जानता हूँ। लेकिन इसके लिए तुम्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है। तुम्हारे वे पंख,जो तुम कछुए को दोगीफिर से उग जाएँगे। उड़ान तुम्हारा सच है। मैं तुम्हे वरदान देता हूँ प्रकृति तुम्हें तुम्हारा सच लौटा देगी।

  तितलियाँ खुश हो गईं। वे अब अपने उस वायदे को निभा सकती थीं,जो उन्होंने कछुए से किया था। उन्होंने सिर नवांकर अपने देवता का आभार प्रकट किया। उसने उन्हें इतिहास में कलंकित होने से बचा लिया था।

 

उन्होंने अपना एक एक पंख दिया और कछुवे को दो डैने मिल गए। ये इतने विशाल डैने थे जितने विशाल डैने किसी नभचर के नहीं थे। और इतने अनोखे भी कि उनमें प्रकृति के सभी रंग थे। कछुए ने डैने पसारकर आकाश में उड़ान भरी तो हवा बौखला गई और नभचर व्याकुल हो गए। यह एक खै़फ़नाक उड़ान थी। लेकिन तितलियों ने कछुए की इस उड़ान में स्वागत गान गाया।

   ’बधाईतुम्हें पंख मिल गए। अब हम भयमुक्त उड़ानें भर सकेंगी। तुम शत्रुओं से हमारी रक्षा करोगे। और हमारे लिए फूल उगाओगे।

  कछुवा अहंकारी हँसी हँसा, ’हाँ,मैं तुम्हे शत्रुओं से सुरक्षा दूँगा,लेकिन अब तुम्हारी उड़ान पर मेरा कब्जा होगा। तुम उतनी ही उड़ान भर सकोगी जितनी की मैं इजाजत दूँगा और उसके लिए तुम्हें वह क़ीमत चुकानी पडे़गी ज़ो मैं तय करूँगा। और जहाँ तक हर तितिली के लिए फूल उगाने की बात है तो इस का उत्तर सत्यकाल में तुम्हें मान लेना चाहिए कि वे उगाए जा चुके हैं।

   ’नाज़ुक और कमज़ोर होने के बावजूद हम कभी किसी की गुलाम नहीं रहीं। उनकी भी जो हमारे शत्रु हैं। तुम्हारे और हमारे बीच ऐसा कोई समझौता नहीं हुआ था कि शत्रुओं से रक्षा करने की एवज में हमें तुम्हारी आधीनता स्वीकार करनी होगी।

   ’माना ऐसा कोई समझौता नहीं हुआ। लेकिन जब तुमने मुझे अपने पंख दिए तो तुम्हे यह बात खुद ही समझ लेनी थी कि पंखों के साथ तुम अपनी उड़ान भी मुझे दे रही....

 

आहत और बेचैन तितलियों ने फिर अपने देवता की प्रार्थना की। इस बार उनकी प्रार्थना पिछली प्रार्थना की तरह सच्चे दिल से की गई प्रार्थना ही नहीं थी बल्कि वह आँसुओं से भी नम थी। उनका देवता फिर प्रकट हुआ और उसने पूछा कि वे अब क्या चाहती है?

   ’हम यह चाहती हैं कि आप कछुवे से उसके डैने वापस ले लें। डैनों की ताक़त से उसने हमारी उड़ानों पर कब्जा करके हमें अपना गुलाम बना लिया।

   ’लेकिन अब मैं कछुए से उसके डैने वापस नहीं ले सकता। मैंने उसी समय बता दिया था कि वरदान मांगने से पहले अच्छी तरह विचार कर लो। वरदान सिर्फ एक बार ही दिया जा सकता है और वह तुम्हें दिया जा चुका है।

   ’हम उसकी चिकनी-चुपड़ी बातों में आ गईं और ठगी गईं।

   ’अफ़सोस तुमने इतिहास से सबक नहीं लिया कि ऐसे वायदे कौन करता है?’

   ’तो क्या अब हम जीवनभर इसी तरह उसके आधीन रहेंगी?मुक्ति की कोई राह नहीं?’ तितलियों ने पूछा।

   ’हालांकि अब मैं तुम्हारी कोई सहायता नहीं कर सकता,’तितलियों के देवता ने कहा, ’फिर भी हताश और निराश होने की ज़रूरत नहीं है। अगर तुम कछुए को अपने पंख दे सकती हो तो विश्वास रखोउससे अपने पंख वापस भी ले सकती हो।’ 

सुभाष पंत द्वारा लिखित

सुभाष पंत बायोग्राफी !

नाम : सुभाष पंत
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.