देश-दुनिया के हालातों से क्षुब्ध मदार परिवार ने लिया ‘ईद’ न मनाने का फ़ैसला:

बहुरंग टिप्पणियां

अनीता 494 2020-05-17

हमरंग के संपादक कथाकार हनीफ़ मदार, फ़िल्मकार एम० गनी एवं शिक्षक, रंगकर्मी एम० सनीफ इन तीनों भाइयों के सामूहिक परिवार ने देश दुनिया के हालातों के मद्देनज़र ख़ुशी और उल्लास के पर्व ईद को न मनाने का फ़ैसला किया है । इस संदर्भ की जानकारी देती हनीफ़ मदार की यह टिप्पणी ........ - अनीता चौधरी

देश-दुनिया के हालातों से क्षुब्ध मदार परिवार ने किया ‘ईद’ न मनाने का फ़ैसला


खूब कोशिश कर रहा हूँ कि झटक दूँ सब कुछ और मनाऊँ ख़ुशी से ईद । लेकिन यक़ीन मानिए मन से, हर बार हार जा रहा हूँ और एक ही फ़ैसले पर जाकर ठहर जा रहा हूँ कि ईद नहीं मना सकता  । क्यों.....?  तो जवाब है ‘सर्वेस्वरदयाल सक्सेना’ की यह लाइनें —

यदि तुम्हारे घर के एक कमरे में

लाशें सड़ रहीं हों

तो क्या तुम

दूसरे कमरे में प्रार्थना कर सकते हो? 

 

महज़ देश ही नहीं दुनिया का इंसान बड़ी महामारी से घिरा है, ऊपर से नाकाफ़ी सरकारी प्रयासों को हम सब देख रहे हैं । अलग बात है, बाहरी तौर पर कुछ बोलें न बोलें किंतु हमारा ‘मैं’ सब देख, जान और समझ रहा है । लाख कोशिशों के बाद भी अपनी जान की परवाह  किए बिना अभावों में भी इस महामारी से लोगों को बचाने में जुटे डॉक्टर उनके सहयोगी,  नर्सें, सफ़ाई कर्मी एवं अन्य सरकारी ग़ैर सरकारी साथी दिन-रात जुटे हैं जो अपने परिवारों से मिल भी नहीं पा रहे..... ऐसे वक्त में यदि हमारी संवेदना जीवित है  तब हम कैसे और किस उल्लास में ईद मनाएँ ?

 

इस कोरोना महामारी के साथ-साथ मज़दूरों का पलायन उनके दुःख-दर्द, बेवशी-लाचारी और अंत में जैसे निरंतरता लिए हुए उनकी मौतें..... उफ़्फ़ ।

 

माफ़ करें ऐसे वक्त में, जब, न केवल जागने से लेकर सोने तक ही बल्कि नींद में भी हृदय विदारक खबरें और मंजर सामने आ रहे हों तब ......... हमसे खुश न हुआ जाएगा । 

कुछ दोस्त लोग यह कह सकते हैं कि, ‘तुम न नमाज़ पढ़ो न रोज़े रखो तो तुम्हारे लिए यूँ भी ईद का क्या  मतलब है ?’

तो, हाँ ! मैं नमाज़ नहीं पढ़ता । मैं रोज़े भी नहीं रखता किंतु वर्तमान वक्त में मेरा यह स्वीकरण मेरी क़ायरता भी नहीं है बल्कि यह मेरी वैज्ञानिक समझ और स्वेच्छा है । क्योंकि मैं जानता हूँ कि कहाँ कोई ख़ुदा इस भीषण बुरे वक्त में साथ आके खड़ा हुआ..? बावज़ूद इसके मैं अपनी इस समझ और स्वेच्छा को किसी पर थोपने या मंज़ूर करने, कराने का बिल्कुल भी हिमायती नहीं हूँ । 

मैं पूजा नहीं करता लेकिन होली खूब खेलता हूँ । मेरा, पूजा से कहीं ज़्यादा दिवाली की रोशनी और मिठाइयाँ खाते-खिलाते चेहरों पर उभरती ख़ुशियों में भरोसा है । ईद भी तो इन्हीं ख़ुशियों को अपनों, दोस्तों, पड़ोसियों, देश और दुनिया के साथ बाँटने का नाम है । फिर प्रेमी दोस्तों के बिना ईद कहाँ ? महज़ पेट भरना भर ही तो होगा फिर चाहे सिवइयों से या दाल रोटी से । 

 

जब भूखे चेहरे लगातार मोबाइल पर उभर रहे हों...... तब देश और दुनिया में उभरे इन हालातों में कैसे किसी उत्सव या उल्लास में डूबा जा सकता है फिर चाहे वह ईद ही क्यों न हो । 

निराश नहीं हूँ पूरी आशा है ‘वो सुबह कभी तो आएगी......!’ तब फिर से ईद भी होगी और दिवाली भी ।

अनीता द्वारा लिखित

अनीता बायोग्राफी !

नाम : अनीता
निक नाम : अनीता
ईमेल आईडी : anitachy04@gmail.com
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

अनीता चौधरी 
जन्म - 10 दिसंबर 1981, मथुरा (उत्तर प्रदेश) 
प्रकाशन - कविता, कहानी, नाटक आलेख व समीक्षा विभिन्न पत्र-पत्रकाओं में प्रकाशित| 
सक्रियता - मंचीय नाटकों सहित एक शार्ट व एक फीचर फ़िल्म में अभिनय । 
विभिन्न नाटकों में सह निर्देशन व संयोजन व पार्श्व पक्ष में सक्रियता | 
लगभग दस वर्षों से संकेत रंग टोली में निरंतर सक्रिय | 
हमरंग.कॉम में सह सम्पादन। 
संप्रति - शिक्षिका व स्वतंत्र लेखन | 
सम्पर्क - हाइब्रिड पब्लिक  स्कूल, दहरुआ रेलवे क्रासिंग,  राया रोड ,यमुना पार मथुरा 
(उत्तर प्रदेश) 281001 
फोन - 08791761875 

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

कविता आज-कल : आलेख “अनुपम त्रिपाठी”

कविता आज-कल : आलेख “अनुपम त्रिपाठी”

अनुपम 467 2020-04-14

इधर कविता की एक ताज़ी दुनिया बन रही है। कुछ समकालीन कवि पूरी तैयारी के साथ आ रहे हैं। 'कविता शब्दों का खेल है'- इस धारणा में बहुत खेला कूदा गया और यह खेल अभी भी जारी है। यह ताज़्ज़ुब करता है कि भाषा कला और साहित्य की ओर से अपनी आँख बंद किए हुए समाज में जहाँ पाठकों की संख्या हाशिये पर जा रही है वहीं लेखकों की संख्या में थोकिया इजाफा हुआ है, खासतौर से कवियों की संख्या में। लिख सब रहे हैं - पढ़ कोई नहीं रहा। पाठकीय क्षेत्र में वस्तु-विनियम का सिद्धांत लगा हुआ है। आप मेरी पढ़ें और मैं आपकी। आत्म चर्चा की ऐसी बीमारी पकड़ी है कि पूछिये मत। इस बिलबिलाई हुई कवियों की भीड़ ने अच्छे कवियों को ढँक लिया है। वैश्विक स्तर पर हिंदी कविता की क्या स्थिति है, इससे हम अनभिज्ञ नहीं हैं। ऐसे में आलोचना की जिम्मेदारी बढ़ जाती है कि वह इस भीड़ से अच्छे कवियों को बाहर निकालकर समाज के सामने प्रस्तुत करे।

क्वारेंटीन : कहानी “राजेंद्र सिंह बेदी”

क्वारेंटीन : कहानी “राजेंद्र सिंह बेदी”

राजेंद्र सिंह बेदी 598 2020-04-14

उर्दू के प्रसिद्ध कथाकार राजिंदर सिंह बेदी (1915–1984) की एक कहानी का शीर्षक है ‘क्वारनटीन’ जो अंग्रेजी राज में फैली प्लेग महामारी को केंद्र में रखकर लिखी गयी है. इस कहानी को पढ़ते हुए आज भी डर लगता है. इसकी कोरोना खौफ़ से तुलना करते हुए जहाँ समानताएं दिखती हैं वहीं यह विश्वास भी पैदा होता है कि मनुष्य इस आपदा को भी पराजित कर देगा. 

 ‘एक डॉक्टर की हैसियत से मेरी राय निहायत मुसतनद है और मैं दावे से कहता हूं कि जितनी मौतें शहर में क्वारनटीन से हुईं, उतनी प्लेग से न हुईं. हालांकि क्वारनटीन कोई बीमारी नहीं, बल्कि वह उस बड़े क्षेत्र का नाम है जिसमें हवा में फैली हुई महामारी के दिनों में बीमार लोगों को तंदुरुस्त इंसानों से कानूनन अलहदा करके ला डालते हैं ताकि बीमारी बढ़ने न पाए. अगरचे क्वारनटीन में डॉक्टरों और नर्सों का काफी इंतजाम था, फिर भी मरीजों की बड़ी संख्या में वहां आ जाने से हर मरीज को अलग-अलग खास तवज्जो न दी जा सकती थी. उनके अपने संबंधियों के आसपास न होने से मैं ने बहुत से मरीजों को बे-हौसला होते देखा. कई तो अपने इर्द-गिर्द लोगों को पे दर पे मरते देखकर मरने से पहले ही मर गए. कई बार तो ऐसा हुआ कि कोई मामूली तौर पर बीमार आदमी वहां के वातावरण में ही फैले जरासीम से हलाक हो गया ।’
- इसी कहानी से
इस कहानी का अनुवाद “रज़ीउद्दीन अक़ील” ने किया है जो आभार के साथ यहाँ प्रस्तुत है.

मनुष्य का जीवन आधार क्या है: कहानी “लियो टॉलस्टॉय”

मनुष्य का जीवन आधार क्या है: कहानी “लियो टॉलस्टॉय”

लियो टॉलस्टॉय 350 2020-03-28

‘वह निराश होकर घर को लौट पड़ा। राह में सोचने लगा—कितने अचरज की बात है कि मैं सारे दिन काम करता हूं, उस पर भी पेट नहीं भरता। चलते समय स्त्री ने कहा था कि वस्त्र अवश्य लाना। अब क्या करुं, कोई उधार भी तो नहीं देता। किसानों ने कह दिया, अभी हाथ खाली है, फिर ले लेना। तुम्हारा तो हाथ खाली है, पर मेरा काम कैसे चले? तुम्हारे पास घर, पशु, सबकुछ है, मेरे पास तो यह शरीर ही शरीर है। तुम्हारे पास अनाज के कोठे भरे पड़े हैं, मुझे एकएक दाना मोल लेना पड़ता है। ‪सात दिन में‬ तीन रुपये तो केवल रोटी में खर्च हो जाते हैं। क्या करुं, कहां जाऊं?’

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.