बचपन व अन्य : कवितायेँ (नेहा जैन )

कविता कविता

नेहा जैन 209 2020-06-28

नेहा जैन पेशे से शिक्षिका है हाल फिलहाल अपने अन्दर उमड़ती भावनाओं कोऔर विचारों को अपने शब्दों में पिरोकर कविताओं के रूप में माला बनाने की कोशिश की है | हमरंग नेहा को भविष्य में उभरती कवियत्री के रूप में देख रहा है | जिससे उनकी रचनाएँ हमरंग के नवलेखन में प्रकाशित हैं |

बचपन 

याद आया वो  बचपन  मुझको 

जो लौट क़र ना  आ  सका |

आँखो मे आंसू होठों पर  मुस्कान आई  है   

याद मुझे मेरे बचपन की आई  है |

याद मुझे  मेरी गुड़िया  आई है 

वो शंख सीप चुन चुन  क़र  लाना |

शाम को  फिर  खेलने  जाना ना |

कोई  चिंता ना  अभिमान, 

दादू के  कंधे  पर  बैठ  के  घूमने  जाना 

नानी  के  सँग परियो की  बाते  करना | 

जाने  सब कहाँ  गया बहुत खोजा, 

फिर ना  मिला वो  बचपन मुझे दुबारा |

पापा के  सँग बाजार जाकर,  

नये  कपड़े  लाना बहुत  याद आता  है |

खाने  के  लिए अपने  पीछे माँ को  भगाना,

इठलाते थे रूठते थे सब हमें मनाते  थे |

आज  तन्हाई ने  घेर लिया ,

रूठना  मैं अब भूल  गया |

वो  दोस्त ना  जाने  कहाँ  गए 

बीमार  जो  मै  होता था | 

सब  घर  पर  मुझे  खिलाने  आते  थे |

वो  कंचे छिपाना भूल गया 

ना तेरा  था  ना मेरा  था  

सब मिल  बाट  क़र  खाते  थे |

आज  हिस्सा हिस्सा  हुआ  है  जीवन 

अखियाँ तलाशती है  वो बचपन फिर  से  

गले लगाने को लौट क़र  जो  ना  आ  सका |


   वजूद 

तेरे वजूद का हिस्सा हूँ |

जीवन  का तेरे क़िस्सा हूँ |

यही तो परिचय है मेरा फिर क्यो तू डरता है मुझे अपनाने से , 

लड़की हू कोई पाप नही जन्म देकर भी घृणा मुझसे, 

क्या ऐसा कोई अपराध हूँ मैं ,

बस पढा देना मुझको स्कूल मुझे जाना है |

और  न कुछ मांगूगी बोझ न बनूँगी तुझ पर 

तेरा कर्ज चुका दूंगी बस मुझे जीने दे |

पढ़ लिख कर कुछ बनने दे नाम करूँगी तेरा 

रोशन वो पल आने दे, सीना तेरा चौड़ा होगा |

तिरस्कर न मेरा कर,

दिन वो आएगा जब तू मुझे गले लगाएगा |

मेरी बिटिया कहकर लोंगो से मिलवाएगा |

नाक तेरी ऊँची होगी बनकर वो दिखलाऊँगी,  

अभी मुझे बस पढ़ने दे पढ़ने दे |


नेहा जैन द्वारा लिखित

नेहा जैन बायोग्राफी !

नाम : नेहा जैन
निक नाम :
ईमेल आईडी :
फॉलो करे :
ऑथर के बारे में :

व्यवसाय - शिक्षिका 

संपर्क - तुवन विहार कॉलोनी, आजादपुरा सोनिमिलन प्लेस के पास ललितपुर उत्तरप्रेदश 

फोन - 8840139696

अपनी टिप्पणी पोस्ट करें -

एडमिन द्वारा पुस्टि करने बाद ही कमेंट को पब्लिश किया जायेगा !

पोस्ट की गई टिप्पणी -

हाल ही में प्रकाशित

नोट-

हमरंग पूर्णतः अव्यावसायिक एवं अवैतनिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक साझा प्रयास है | हमरंग पर प्रकाशित किसी भी रचना, लेख-आलेख में प्रयुक्त भाव व् विचार लेखक के खुद के विचार हैं, उन भाव या विचारों से हमरंग या हमरंग टीम का सहमत होना अनिवार्य नहीं है । हमरंग जन-सहयोग से संचालित साझा प्रयास है, अतः आप रचनात्मक सहयोग, और आर्थिक सहयोग कर हमरंग को प्राणवायु दे सकते हैं | आर्थिक सहयोग करें -
Humrang
A/c- 158505000774
IFSC: - ICIC0001585

सम्पर्क सूत्र

हमरंग डॉट कॉम - ISSN-NO. - 2455-2011
संपादक - हनीफ़ मदार । सह-संपादक - अनीता चौधरी
हाइब्रिड पब्लिक स्कूल, तैयबपुर रोड,
निकट - ढहरुआ रेलवे क्रासिंग यमुनापार,
मथुरा, उत्तर प्रदेश , इंडिया 281001
info@humrang.com
07417177177 , 07417661666
http://www.humrang.com/
Follow on
Copyright © 2014 - 2018 All rights reserved.